सोमवार, सितंबर 01, 2008

मित्र का मित्र

मेरी पहली रेल यात्रा में मुझे मथुरा से झाँसी जाना पड़ा । झाँसी में मेरा मित्र था । मैं रात को रेलवे स्टेशन पर उतरा तो एक सज्जन सामने ही खड़े मिल गए । उन्होंने मेरी तरफ़ हाथ बढ़ाया तो मेरी बाँछें ( पता नहीं शरीर के कौन से हिस्से में होती हैं ) खिल गयीं । दर असल मुझे अपने मित्र के पास ऐसे समय जाना पड़ा था कि न तो उसे मेरे आने की सूचना थी और न मैंने उसका घर देखा था । मेरे पास बस कागज पर लिखा हुआ उसका पता ही था । उस समय फोन भी आजकल की तरह प्रचलित नहीं थे । बहरहाल जो भी हो मुझे उस आदमीं में भगवान दिखाई दिये और मेरे भेजे में यह बात घर कर गयी कि हो न हो यह मेरे मित्र के कोई परिचित हैं जिन्होंने मुझे उसके साथ कभी देखा होगा । मैंने भी बडी गर्मजोशी से अपना हाथ उनके हवाले कर दिया । मेरी आशा उस समय निराशा में बदल गयी जब उन्होंने कहा," ए मिस्टर ! होशियारी मत दिखाओ , टिकिट दिखाओ . " इससे पहले कि मैं हँसी का पात्र बनूँ , मैं टिकिट दिखा कर वहाँ से चलता बना ।

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत प्यारी पोस्ट।
    ऐसे ही सहज सरल अभिव्यक्तियों की प्रतीक्षा रहेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढिया है ..
    खट्टा मीठा अनुभव..
    मैं भी पानीपत में हूं कभी मिलियेगा ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रोत्साहन हेतु आप का धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण