बुधवार, जनवरी 21, 2009

अथ श्री मूँछ कथा

कहा जाता है कि " मूँछें हों तो नत्थूलाल जैसी ".
हमने नत्थूलाल को कभी नहीं देखा . फिर भी हमको लगता है कि नत्थूलाल की मूँछें बहुत आकर्षक रही होंगी . शायद नत्थूलाल से भी आकर्षक . तभी तो लोग नत्थूलाल को भूल गए पर उनकी मूँछें अभी भी जिन्दा हैं . बल्कि यह कहा जाय कि नत्थूलाल अपनी मूँछों के रूप में आज भी हमारे बीच हैं .
कुछ लोगों को लगता है कि नत्थूलाल की मूँछें बहुत बडी बडी रही होंगी . जबकि उनके विरोधी दल वालों का मानना है कि नत्थूलाल छोटी मूँछ रखते थे . इनका तर्क है " चूँकि छोटी मूँछ आरामदायक रहती है इसीलिए मूँछों का यह स्टाइल लोकप्रिय हो गया होगा और यह कहावत बनी होगी .
दोनों ही दल वाले अपने अपने तरीके से नत्थूलाल को फॉलो करते हैं . जैसे विभिन्न धर्मों में ईश्वर को भिन्न भिन्न नामों से जाना गया है उसी तरह नत्थूलाल के अनुयायी भी उनको अलग अलग रूपों में याद करते हैं .
वैसे इन दोनों दलों से अलग एक तीसरा मोर्चा भी है जिसे नत्थूलाल में विश्वास नहीं है . ये स्वयं को देवताओं का फॉलोअर कहते नहीं थकते . अक्सर आदमी अपनी मजबूरी को छिपाने के लिए किसी तर्क का अनुसन्धान करने की जुगत में रहता है . तर्क न मिलने पर इमरजेंसी की स्थिति में कुतर्क से भी काम चला लिया जाता है . वैसे भी तर्क और कुतर्क के बीच कोई स्पष्ट विभाजन रेखा नहीं होती . ऐसे ही तीसरे मोर्चे वालों में अधिकतर लोग हैं . इनमें कुछ ही लोग देवताओं का अनुसरण अपनी इच्छा से करते हैं . और मूँछें नहीं रखते . पर बहुमत मजबूरी वालों का ही है . किसी की पत्नी को मूँछें पसंद नहीं हैं तो किसी को रोज रोज मूँछें सेट करने का आलस्य घेरे रहता है . कुछ ऐसे भी हैं जो मूँछें रखना तो चाहते हैं पर इनकी मूँछें आती ही नहीं है . मूछों के नाम पर ईश्वर इन्हें चार छ: बाल ही दे पाए थे कि किसी आवश्यक कार्य से बाहर जाना पड गया . बेचारे तीसरे मोर्चे में शामिल हो गए और जमे जमाए तर्क कुतर्क रट लिए .
मजे की बात यह कि ऐसे लोगों में कुछ नारियाँ भी हैं जिन्हें मूँछें न होने का मलाल रहता है . अगर ईश्वर इन्हें कहीं अकेले दुकेले मिल जाए तो ईश्वर का भगवान ही मालिक है . ये शायद झगड ही बैठें . इनको असल में हर चीज में पुरुषों की बरावरी करने का जुनून रहता है , फिर चाहे वह चीज अच्छी हो या बुरी . इन्हें बरावरी के चक्कर में गाली गलौज तक से परहेज नहीं . शायद इसी से मूँछों की कमी पूरी हो जाय .
खैर आगे बढते हैं . ऐसा नहीं है कि मजबूरी ने सिर्फ तीसरे मोर्चे वालों को ही घेरा हो . मजबूरियाँ नत्थूलाल एण्ड पार्टियों के सामने भी हैं . असल में उनमें से कुछ ऐसे जिन्हें मूछें बोझ मालूम होती हैं पर वे अपनी इमेज में कैद हो चुके हैं . उससे बाहर चाहकर भी नहीं निकल पाते . ऐसे लोग मूँछें साफ करने के सपने देखा करते हैं पर बिना मूँछों के समाज में कैसे मुँह दिखाएंगे इसी सवाल को हल नहीं कर पाते . कुछ साहसी लोग बहाने तलाशने में सफल रहते हैं मूँछें साफ कर लेंगे , उसे दुर्घटना का रूप देने की कोशिश करेंगे , कहेंगे कि गलती से साफ हो गई या नाई की गलती है कहकर नाई को चार गालियाँ देंगे . कुछ घाघ टाइप लोग धीरे धीरे लम्बी प्रकिया में योजनाबद्ध तरीके से मूँछें साफ कर देते हैं . पहले छोटी , फिर और छोटी , फिर मक्खी जैसी और उसके बाद तो पब्लिक को याद ही नहीं रहता कि इनके मूँछें हैं या नहीं . बस मौका देखकर किसी दिन उस्तरा फिर जाता है . और बन गए देवता !

30 टिप्‍पणियां:

  1. हमें तो बस हिटलर वाली मूंछें याद हैं| क्या शानदार लगती थीं!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमने तो नत्थूलाल जी की मूँछे फिल्म शराबी में देख ली थी..

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह ! शानदार है. मजेदार है.

    मूंछ-मूंछ की बात कर डाली. नत्थूलाल जी की मूंछ हमने भी फिलिम शराबी में देखी थी. दस बजकर दस मिनट पर रहती थी उनकी मूंछें. मूंछें तो हमारे पास भी हैं लेकिन हमेशा सवा नौ बजाती हैं. निगाह फेरिये ऐसे भी लोग मिल जायेंगे जिनकी मूंछें साढ़े छ बजाती हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. मूँछ अनन्त, मूँछ कथा अनन्ता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुझे तो रामचन्द्र शुक्ल की मूंछे याद है, खूब-खूब बालों वाली और उसमें से झांकती उजली सी हंसी.
    रामचन्द्र शुक्ल को तो जानते हैं न?

    उत्तर देंहटाएं
  6. moochh katha ki jay.kahan kahan hain najren aur kahan kahan nishana ?????

    उत्तर देंहटाएं
  7. घड़ी की सूइयों की तरह बदलती मूछें!

    उत्तर देंहटाएं
  8. नत्थूलाल जी की मूँछें तो अमिताभ बच्चन ने फिल्म शराबी में हिट कर दीं थी। इस पात्र को मुकरी ने निभाया था। नयी पीढ़ी वालों के लिए यह एक कहावत बन गयी। यह बॉलीवुड के भारतीय भाषा और समाज पर स्थायी प्रभाव का नमूना है। :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. कुछ साहसी लोग बहाने तलाशने में सफल रहते हैं मूँछें साफ कर लेंगे , उसे दुर्घटना का रूप देने की कोशिश करेंगे , कहेंगे कि गलती से साफ हो गई या नाई की गलती है कहकर नाई को चार गालियाँ देंगे . कुछ घाघ टाइप लोग धीरे धीरे लम्बी प्रकिया में योजनाबद्ध तरीके से मूँछें साफ कर देते हैं . पहले छोटी , फिर और छोटी , फिर मक्खी जैसी और उसके बाद तो पब्लिक को याद ही नहीं रहता कि इनके मूँछें हैं या नहीं . बस मौका देखकर किसी दिन उस्तरा फिर जाता है . और बन गए देवता !

    जरा पता किया जाये इस श्रेणी में कितने लोग हैं. :)महाराज मुझे तो आपभी इसी श्रेणी मे दिखाई दे रहे हैं. जरा चोसकर बताईये?

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपका ये मूंछ पुराण बहुत बढिया रहा..........
    किन्तु आपने ये नहीं बताया कि अपनी खुद की मूछें आपने'तुरन्त दान महाकल्याण'वाले तरीके से साफ की हैं या फिर आपने भी कोई लम्बी प्रक्रिया अपनाई थी.

    उत्तर देंहटाएं
  11. भैय्या तुमने अपनी मुछे कितने समय मे और किस तरीके से साफ़ की ,तरीका बताये हम भी देवता बनना चाह रहे है

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत अच्‍छा रहा आपका यह मूंछ पुराण।

    उत्तर देंहटाएं
  13. यार विवेक जी मूंछ पुराण तो बढ़िया पर आप अलीगढ़ से इंडिया कब आये पता ही नहीं चला...!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. मनोरंजक पोस्ट. अच्छा सोच कर बताइए कि देवताओं ने मूँछ क्यों नही रखी. यहाँ तक शिव जी के जटा वटा होते हुए भी मुछमुंडे क्यों (अपवाद छोड़)

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही मजेदार पोस्ट है लीजिये अब मूंछो पे एक मेरी और से
    आदमी की नाक आदमियत की शान होती है और आदमी की नाक महत्वपूर्ण होती है इसीलिए भगवान ने आदमी की मूंछे बनाईं है और नाक को मूंछो से अन्दर लाइन किया है . इसीलिए कहते है की मूंछ हो तो नत्थू लाल जैसी
    हाहा हा हा हा हा हा हा क्या आपकी नाक अन्दर लाइन है ?

    उत्तर देंहटाएं

  16. ब्लागर वैतरणी को मूँछ की पूँछ पकड़ कर,
    पार करै का बेहतरीन विश्लेषण ठोक्यौ है, विवेक भईय्या !

    उत्तर देंहटाएं
  17. मूंछों पर इतनी सुन्‍दर विवेकी पोस्‍ट पढ कर आनन्‍द आ गया। आप तो अच्‍छा-भला 'मूंछ पुराण' उपलब्‍ध करा सकते हैं।
    आनन्‍द आया।

    उत्तर देंहटाएं
  18. यानि आप देवता हो लिया और हम अपनी जगह तलाशें?

    बहुत खूब..ये कौन बात हुई भई.

    बहुत बेहतरीन रची मूँछ गाथा. मजा आया. :)

    उत्तर देंहटाएं
  19. bahut kaamal ki baat kahi aapne .aap kabhi hamare blog par aaiye ,aapka swagat hai,blog ke follower ban kar sahyog dijiye:

    http://meridrishtise.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  20. अब समझ आया आपके देवता बनने का राज!! रोचक

    उत्तर देंहटाएं
  21. विवेक जी
    बिना मुछों की आपकी पिक्चर देख कर आपके मूछ पुराण ने हमें आपका दीवाना बना दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  22. अरे विवेक जी,
    मूछ पुराण ही लिख डाला. जरा अपने चेहरे को देखो, अगर मूछें होती तो मैं कहता कि मूछें हो तो विवेक जैसी.

    उत्तर देंहटाएं
  23. मेरी मूंछे तो बनी हुयी हैं -इंशा अल्लाह ये ऐसी बनी भी रहेंगी !

    उत्तर देंहटाएं
  24. 'मूँछें हों तो नत्थूलाल जैसी' अब नत्थूलाल के जैसी हैं ही नहीं इसलिए हमने नहीं रखा :-)

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण