शनिवार, मई 15, 2010

बचपन करे कठिन मजदूरी

बचपन करे कठिन मजदूरी

हमने करी तरक्की काफी
लेकिन अभी अधूरी
बचपन करे कठिन मजदूरी


नंगे पैर घूमता दिनभर
पालीथिन भी उठा उठाकर
हों न जरूरत पूरी
बचपन करे कठिन मजदूरी


रातों में देर तक जागता
प्लेटफार्म पर बोल भागता
"लो पेठा अंगूरी"
बचपन करे कठिन मजदूरी


रोज चाय के गिलास धोता
पिटने पर भी कभी न रोता
पिटाई लगने लगी जरूरी
बचपन करे कठिन मजदूरी


पीने में बस पानी पीता
रूखी-सूखी खाकर जीता
रोटियां भी न मिलें तंदूरी
बचपन करे कठिन मजदूरी


चाचा नेहरू ? नहीं जानता
बाल-दिवस को नहीं मानता
न जाने शिमला, मंसूरी
बचपन करे कठिन मजदूरी


पता नहीं कब बडा हो गया
मिला न उसको कभी कुछ नया
कुछ न कुछ सदा रही मजबूरी
बचपन करे कठिन मजदूरी


हमने करी तरक्की काफी
लेकिन अभी अधूरी
बचपन करे कठिन मजदूरी

16 टिप्‍पणियां:

  1. हमारे देश की यह एक भयंकर सचाई है, लेकिन सरकार कुछ नही करती बक्वास करने के सिवा

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहद मार्मिक... सरकार ने कानून बनाकर इतिश्री कर ली..

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे भाई, बहुत दिन बाद पधारे हो।

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. हमने करी तरक्की काफी
    लेकिन अभी अधूरी
    बचपन करे कठिन मजदूरीहमने करी तरक्की काफी
    लेकिन अभी अधूरी
    बचपन करे कठिन मजदूरी

    बहुत ही मार्मिक प्रस्तुति है ...एक अच्छी रचना .....बचपन आज सच में कही खोता जा रहा है .......और इसके जिम्मेदार सरकार , के साथ-साथ आम आदमी भी है ...और ये बाल मजदूरी जैसी बुराई गाँव के अपेक्षा शहरों में ज्यादा पनप रही है ....बचपन को छीनने वाली सबसे प्रमुख बुराई है ये ....इसी कारण गरीब बच्चे अशिक्षित रह जाते है ....और सारी समस्याएं फिर यही से जन्म लेती है ....अच्छी प्रस्तुति /// .....सादर प्रणाम
    http://athaah.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  6. baal mzduri kaa ahchaa prstutikrn he baal mzdoor nirodhit qaanoon or unki kriyaanviti pr srkaar ki upeksha pr bhi kuch grmaa grm likhaa jaaye. akhtar khan akela kota rajasthan mera hindi blog akhtarkhanakela.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. देखते हैं अब शिक्षा का अधिकार इस समस्या का कितना समाधान करता है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. vey nice...


    i wanna add this..


    na maa baap ka pyar mila,
    har jagah keval dhutkar mila,
    "dedo roti, pila do paani"
    bachpan bhar bas yahi kahani,
    kya ishwar ko ye karna tha zaroori,
    bachpan kare kathin majdoori.....

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण