सोमवार, जनवरी 05, 2009

मुए बता फिर तू क्या पीता ?


कुहरे का प्रकोप था भारी ,
सभी ओर पसरा था जाडा ।
एक गावँ की बुढिया घर से,
निकली लेकर बस का भाडा ॥
बस अड्डे पर पहुँच गई तो,
होने लगी उसे लघुशंका ।
समाधान था बहुत जरूरी,
मिला उपाय न कोई ढंग का ॥
चारों तरफ निराशा देखी,
सहसा एक आइडिया आया ।
कुहरा खूब घना देखा तो,
कुहरे का ही लाभ उठाया ॥
उसने अपना काम जरूरी,
बस के पीछे जा निपटाया ।
लेकिन जब आरही थी वापस,
एक पुलिसवाला टकराया ॥
बोला " बुढिया ! चुपके चुपके ,
इधर कहाँ से तू आती है ?
तूने कोई चोरी की है,
या फिर तू आतंकवादी है ॥ "
बुढिया थी सीधी बेचारी,
आरोपों से बहुत डर गई ।
उसने कुछ भी नहीं छुपाया,
तुरत फुरत सच बयाँ कर गई ॥
सख्त और तब हुआ सिपाही,
"यह तो बहुत बडी गलती है ।
पाँच रुपये जुर्माना देगी,
या फिर तू थाने चलती है ?"
पाँच रुपये देकर बुढिया ने,
झंझट से पीछा छुडवाया ।
लेकिन आगे के मंजर पर,
आँखों को विश्वास न आया ॥
वही सिपाही पाँच रुपये का,
सिक्का जब हॉकर को देकर ।
भरवाके कप एक चाय का,
पीता था चुस्की ले लेकर ॥
जाकर पास कहा बुढिया ने,
"इस वर्दी को लगे पलीता ।
मुझे न जो लघुशंका होती,
मुए बता फिर तू क्या पीता ?"

26 टिप्‍पणियां:

  1. "इस वर्दी को लगे पलीता ।
    मुझे न जो लघुशंका होती,
    मुए बता फिर तू क्या पीता ?"

    क्या बात है! क्या केने!

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस वर्दी को लगे पलीता ।
    मुझे न जो लघुशंका होती,
    मुए बता फिर तू क्या पीता ?"

    वाह विवेक भाई,

    पुलिस वाले को खूब चखाया लघुशंका का स्वाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब!! घूस के पैसे से वही पीने के लिए उपलब्ध भी होना चाहिये इन नालायकों को.बुढ़िया ने बहुत सही कहा!! आनन्द आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  4. विवेक जी नमस्कार,
    बुढिया भी कितनी सजग थी. पुलिस वाले को रंगे हाथों पकड़ लिया.

    उत्तर देंहटाएं
  5. हा हा हा...बहुत खूब लिखा है आपने.....सही में मस्त है...

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छी लेखनी है, पढ़ के मजा आगया.
    नए साल की बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. हा हा हा मज़ा आ गया। बहुत सुन्दर लिखा है। बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूब,
    कहने को तो मजा आ गया, हँसी के फुहारे भी मगर व्यंग के बहाने आपने जो कठोर चोट हमारे व्यवस्था पर की है नि:संदेह सोचने को मजबूर करती है, गरीब की गरीबी ही लुट का साधन बन गयी है,
    आपको साधुवाद.
    रजनीश के झा
    http://rajneeshkjha.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  9. उसके बाद पुलिसिये के चेहरे की कल्पना कीजिए :-)

    उत्तर देंहटाएं
  10. ये पीना भी कोई पीना है लल्लू!...

    :) बहुत खूब विवेक भाई.. एक बार फिर गाने को मन कर रहा है.. तू तू तू.. तू तू तारा

    उत्तर देंहटाएं
  11. लाजवाब जी. आखिर जिस चीज के एवज मे पैसे लिये थे तो बुढिया ने बिलकुल चौकस सवाल किया .

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  12. ऐसा भी लिखते हो .चलो इतने लोग कह रहे है तो बढिया है .

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह्! बहुत ही अच्छी व्यंग्य रचना. बढिया कटाक्ष किया है ऎसी भ्रष्टाचारी व्यवस्था पर

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह क्या कटाक्ष किया पुलिसिया क्रियाकलापों पर !

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुंदर विवेक जी...मनमोहक काफिये और शानदार व्यंग्य..

    उत्तर देंहटाएं
  16. वास्तविकता... हंसी मजाक के साथ; धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

  17. बुढ़िया ने इतनी गुणकारी मूत्रचाय का बिल नहीं पकड़ाया, क्या ?

    उत्तर देंहटाएं
  18. "इस वर्दी को लगे पलीता ।
    मुझे न जो लघुशंका होती,
    मुए बता फिर तू क्या पीता ?"
    लाज़बाब व्यंग रचना मज़ा आ गया साहेब

    उत्तर देंहटाएं
  19. स्वप्नलोक में ऐसे ही सपने देखते हो विवेक भाई. हे राम!

    उत्तर देंहटाएं
  20. चार लाइन और

    वोय बुढिया, तू बहस न कर,
    और देख मै वर्दी वाला हूँ.
    मैंने चूसा है खून बहुत,
    जो मिला वही खा डाला हूँ.
    तुझे न गर लघुशंका होती,
    क्या मै प्यासा मर जाता,
    कोई बच्चा "कुछ" कर बैठा तो,
    खाने को ना मिल जाता ?

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण