रविवार, अगस्त 01, 2010

घोटालों का स्वर्ण-पदक

कॉमनवेल्थ गेम दिल्ली में हों या कलकत्ता में ।
खबरें अमरउजाला में पढ़ लें  या जनसत्ता में ॥

भारत की अनेकता में एकता जरूर दिखेगी ।
लाख रोक लो किन्तु ब्लैक में टिकिट अवश्य बिकेगी ॥

चाहे लाख कोशिशें कर लें हमसे जलने वाले ।
चाहे तो सरकार स्वयं अपनी ताकत अजमा ले ॥

चाहे अपने सभी खिलाड़ी बिना पदक रह जाएं ।
चाहें तो मेहमान खिलाड़ी सब मेडल ले जाएं ॥

लेकिन अपने फैनगणों को हम न निराश करेंगे ।
घोटालों का स्वर्ण-पदक हम निश्चित ही जीतेंगे ॥

10 टिप्‍पणियां:

  1. घोटालों का स्वर्ण पदक अभी से जीतना शुरू कर दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. घोटालों के स्वर्ण पदक के ज्यादातर खिलाडी होंगे दिल्ली सरकार के विभाग और उसके उम्दा भ्रष्ट मंत्री ...शर्मनाक है यह स्थिति ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. घोटालों का स्वर्ण-पदक हमारे पास है और रहेगा भी

    उत्तर देंहटाएं
  4. लेकिन अपने फैनगणों को हम न निराश करेंगे ।
    घोटालों का स्वर्ण-पदक हम निश्चित ही जीतेंगे ॥
    Ab in halat se kistarah nipta jay??

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक यही तो खेल है जिसमे हमें कोई हरा नहीं सकता 'घोटाला' !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. जिनियस बुक मै भारत का नाम स्वर्ण शव्दो मै लिखा जाना चाहिये की घटोलो क सरताज, कोई माई का लाल इस रिकार्ड को तोड कर तो दिखाये?

    उत्तर देंहटाएं
  7. इसमें तो बाकी टीमें यूँ ही वॉक ओवर दे देंगी.

    उत्तर देंहटाएं
  8. ये देश सचमुच घोटालों का बेताज बादशाह है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं!
    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण