बुधवार, सितंबर 10, 2008

आगए कल्लू मामा

कल्लू मामा आगए, वापस अपने द्वार ।
हम कृतज्ञ हैं किस तरह व्यक्त करें आभार ।
व्यक्त करें आभार, किया उपकार आपने ।
आसिफ की ली खबर आज रज़िया के बाप ने ।
विवेक सिंह यों कहें सुनो हे सखा सुदामा !
वापस अपने द्वार, आगए कल्लू मामा ॥

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छा लिखते हैं आप...आपका ब्लॉग देखकर हरियाणा याद आ गया...

    उत्तर देंहटाएं
  2. " very good style to welcome Sameer jee. hume bhee accha lga"

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब इतने प्यार से बुलाओगे तो कैसे नहीं आयेंगे कल्लू मामा. :)

    --------------------

    आपके आत्मिक स्नेह और सतत हौसला अफजाई से लिए बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण