शुक्रवार, जनवरी 23, 2009

प्रकट हों एक बार फिर


Add Image

नेताजी को जन्मदिन, खूब मुबारक होइ .


आदर्शों पर आपके, काश चले सब कोइ ॥


काश चले सब कोइ, क्रांति का बिगुल बजाने ।


देकर अपना खून स्वयं आजादी पाने ॥


विवेक सिंह यों कहें प्रकट हों एक बार फिर ।


झंझट सब मिट जाय राष्ट्र का ऊँचा हो सिर ॥


29 टिप्‍पणियां:

  1. आदर्शों पर आपके, काश चले सब कोइ ॥

    bahut bahut mubaarik ho
    is saarthak abhivyakti ke liye
    vivek bhai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. vah vivek ji kamaal kar dia mubaarak ho magar aaj bade serious lag rahe ho kyaa baat hai

    उत्तर देंहटाएं
  3. नेताजी के जन्‍म दिन पर उन्‍हे याद करना अच्‍छा लगा...बहुत सुंदर...बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. नेता जी को मेरा नमन और आपने इतना सुन्दर प्रस्तुतिकरण किया इसके लिए ढेरों बधाईयाँ।


    ---आपका हार्दिक स्वागत है
    गुलाबी कोंपलें

    उत्तर देंहटाएं
  5. नेताजी को नमन!

    करनी कर गुजर गए जो
    हम उन को क्यों बुलाते हैं?
    क्यों, अपना नेता
    खुद नहीं बनाते हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी इच्छा, सबकी इच्छा. नेता जी का पावन स्मरण.

    उत्तर देंहटाएं
  7. झंझट सब मिट जाय राष्ट्र का ऊँचा हो सिर ॥

    नेताजी को याद करने के अलावा और कोई चारा नही बचा|

    उत्तर देंहटाएं
  8. Neta ji o hamara bhi shat shat naman.

    aap ki mano kamna poori ho--neta ji ki aaj is desh ko sakht jarurat hai.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुँदर सँदेश देती कविता पसँद आई --
    सुभाष बाबु अमर रहेँगेँ
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  10. नेताजी को नमन। आपको गणतंत्र दिवस की अग्रिम बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  11. ham yuvao ko aaj bhi unki jarurat hai....netaji hamesha yuvao se sachhe neta bankar josh ke saath raasta dikhate rahenge

    उत्तर देंहटाएं
  12. netaji ek mahan aatama the,unki maut ek rahasya hi reh gyi...netaji bose mera sat sat pranam.

    robinrajonline.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. बढिया तुकबन्दी कर दी है सुभाष जी पर. उनको मेरी और से भी नमन

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही सुंदर रचना. नेताजी को मेरा शत-शत नमन.

    उत्तर देंहटाएं
  15. नेताजी को शत शत नमन . नेता जी के आदर्शों को यथाशक्ति आत्मसात हो . यही उनका पावन स्मरण होगा .

    उत्तर देंहटाएं
  16. फिर एक बार पढ़ा वाह वाह ! नेता जी को मेरा नमन और श्रद्धाँजलि

    उत्तर देंहटाएं
  17. क्या बात है विवेक भाई बहुत ख़ूब कहा आपने। नेताजी को हमारे ख़ूँ के क़तरे क़तरे का सलाम देना।

    उत्तर देंहटाएं
  18. नेताजी को सलाम . मेरा मानना है नेता जी उसी समय नही रहे थे , अगर होते तो वह स्समने जरुर आते . वह डरपोक नही थे जो कोई गुमनामी मे जीवन काटते

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण