बुधवार, जुलाई 29, 2009

भये प्रकट समीरा

समीर लाल 'समीर' उड़नतश्तरी वाले उर्फ़ स्वामी समीरानन्द बाबा के नाम से हिन्दी ब्लॉगजगत में कौन अपरिचित होगा । आपकी उड़नतश्तरी.....जबलपुर से कनाडा तक...सरर्रर्रर्र... गयी थी । आप 1963 में जबलपुर में अवतरित हुए । आपने हिन्दी ब्लॉगिंग में टिप्पणी के महत्व को सबसे पहले पहचाना और सब हिन्दी ब्लॉगरों को अपना कर्जदार बनाकर छोड़ा नहीं बल्कि उनके ऊपर टिप्पणी का कर्ज़ लादते ही जा रहे हैं, लादते ही जा रहे हैं । आज आपके हैप्पी बड्डे के शुभ अवसर पर हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि आप यूँही हिन्दी ब्लॉगरों को कर्ज में डुबोए रहें । हमारी माँग है कि श्री समीर बाबा का जन्म दिवस टिप्पणी दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिये !

चलते-चलते

भये प्रकट समीरा, टिप्पणि वीरा, नव ब्लॉगर हितकारी ।

चढ़ि उड़नतश्तरी, करत ब्लॉगरी, सब जानत नर नारी ।

रहे लिखत कुण्डली, कहत मुण्डली, गज़ल कबहुँ लिखि डारी ।

पड़े टिप्पणि सूखा, ब्लॉग हो भूखा, नाम समीर पुकारी ।

***********************************************

अति भावुक लिखते, सुन्दर दिखते, श्यामल कोमल काया ।

हुआ जन्म जबलपुर, करी कृपा सुर, ब्लॉगर इन्हें बनाया ।

मिला कंठ सुरीला, रूप सजीला, हृदय सुकोमल पाया ।

हुआ हो विवाद जहँ, साधु साधु कह, चलत चलत टिपियाया ।

सूचना : स्वप्नलोक के एक और शुभचिन्तक श्री अरविंद मिश्रा जी 'क्वचिदन्यतोअपि..........! वाले' , टिप्पणियों का अर्धशतक लगाने में कामयाब हुए हैं । उन्हें बहुत बहुत बधाइयाँ ।

25 टिप्‍पणियां:

  1. जन्माष्टमी बधाई।
    इसे ब्लॉगजगत कर्ज-उतार में गिन लिया जाये!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढिया .. आपका कर्ज उतर गया !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह! तुलसीदास की गद्दी खतरे में पड़ गई है अब. ब्लॉग चरित मानस के बाद अब यह! वाह.

    उत्तर देंहटाएं
  4. समीरलाल को जन्मदिन मुबारक हो। और जो कहना है वो कहते नहीं बन रहा है। :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह,आज तो बस हर तरफ बस समीरजी ही छाये है !

    उत्तर देंहटाएं
  6. समीरलालजी को जन्मदिन की हार्दिक बधाईयां और अब साहुकारी उन्मूलन कानून आगया है. तो दिया गया टिपणी कर्ज कहीं खतरे मे नही पड जाये?:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  7. समीरलालजी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ |

    उत्तर देंहटाएं
  8. समीरलालजी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ |
    badhai

    उत्तर देंहटाएं
  9. बाबा विवेकदासजी, समीरचालीसा ही लिख देते:)
    वैसे आज गांधीगिरी वाले संजू बाबा का भी बर्थडे है। दोनों को बधाई।
    वाह! क्या बनाई राम ने जोडी
    एक करे नौटंकी, दूजा ब्लागरी॥

    उत्तर देंहटाएं
  10. जे हो समीरजन्मोत्सव की . भाई मिठाई प्रसाद की व्यवस्था भी आप ही के सर है

    उत्तर देंहटाएं
  11. समीरलाल जी को जन्मदिन मुबारक! फ़िर से! मुबारकबाद में भी कौन पैसा खर्चना पड़ रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. मस्त रहा यह भी...आनन्द आ गया. आप तो अतिगुणी हैं..

    इस असीम स्नेह, बधाई एवं शुभकामनाओं के लिए हृदय से आभार.

    आपने मुझे इस दिवस विशेष पर याद रखा, मैं कृतज्ञ हुआ.

    समस्त शुभकामनाऐं.

    उत्तर देंहटाएं
  13. समीर समीर सब कोई कहै ,विवेक न कहिये कोई ।
    जौं विवेक हर कोई कहै,तौ विवेक भी समीर ही होय ॥
    ....वर समीरानन्दजी की जै,बोलो भई सब ब्लोगरन की जै,
    जै जै ब्लोगुवीर समर्थ ,श्री टीप्पणीनाथ महाराज की.............

    उत्तर देंहटाएं
  14. विवेकजी, लगता है आज तो ब्लोग जगत मे समीरजन्माष्टमी का मेला ही लग गया है। समीरजी को उनके घर जाकर बधाई दे आए है।

    आभार/ मगल भावनाऐ
    हे! प्रभु यह तेरापन्थ
    मुम्बई-टाईगर
    SELECTION & COLLECTION

    उत्तर देंहटाएं
  15. Happy Birth Day Sameer Bhai !!
    Where is my piece of the Cake ?
    Thank you Vivek bhai
    for a Nice poem .

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत बढ़िया! समीरलालजी को जन्मदिन मुबारक और हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  17. विवेक भाई आपकी काव्य चातुरी और निरूपण पर तो बड़े बड़े पानी माँगेंगें -हम तो मुरीद हुए !
    मुला भैये कुछ तेज संभालो आपे - ब्लागजगत अब थर थर काँपे !
    और हाँ उड़न छू जी की तो महिमा अपार -
    अब दुल्हिनों भी गावें मगलाचार
    जनम लियो हमारे समीर राम ब्लॉग भरतार !
    जय जय हो -प्रभाती बज रही है जन्माष्टमी की
    ज्ञान भैया भी यह डिक्लेयर किये भये हैं
    हम अब आठ दिन तक ऐसे ही प्रभाती गायेगें !

    उत्तर देंहटाएं
  18. मेरी भी शुभकामनाएं लेलोज्जी। थोड़ी देर भई गयी है। गजबै लिखि मारे हैं। वाह-वाह।

    उत्तर देंहटाएं
  19. लगता है फ़ीड दुबारा आगई है. तो क्या हुआ? पुन: समीर बाबा को जन्मोत्सव की हार्दिक बधाईयां जी.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  20. अच्छा, अरविन्द जी अर्धशतक लगाने में कामयाब हुए तो उन्हें कंपनी ने बधाई क्यों नहीं दी? इस सवाल का जवाब दिया जाय.

    उत्तर देंहटाएं
  21. @ गुरुदेव,

    जैसा कि फ़ुरसतिया जी ने कहा है कि अक्सर किसी काम को करने के बाद उसके पक्ष में तर्क ढूँढ़ लिये जाते हैं, वैसा ही प्रयास हम कर रहे हैं, सुनिये( पढ़िये ):

    हमने यह तो लिखा नहीं है कि बधाई किसकी तरफ़ से है लिहाजा जिसने पूर्व में बधाई दी वही अब बधाई दाता माना जाय,

    क्या बॉलर हर बॉल पर अम्पायर को बताता है कि वह बॉलिंग ओवर द विकेट करेगा या राउण्ड द विकेट ?

    हम जानते हैं कि आप इसे तर्क की बजाय कुतर्क कह सकते हैं, पर हम क्या करें हमारे पास फ़िलहाल इससे अच्छा पीस नहीं है :)

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण