रविवार, अक्तूबर 11, 2009

ओबामा को नोबेल पचा नहीं

Nobel

ओबामा को शांति का नोबेल मिलना कुछ लोगों के गले नहीं उतरा । जल्दबाजी में खा तो गये पर निगल नहीं पा रहे । कुछ का गले में तो कुछ का आहारनाल में अटका पड़ा है । कुछ खाऊ टाइप इसे निगल गये पर पचाने में कामयाब नहीं हुए ।

लेकिन ऐसे पचाऊ लोगों की गिनती भी कम नहीं जिन्होंने इसे पचाकर बाहर भी निकाल दिया होगा और अब कुछ और पचाने में लगे होंगे ।

16 टिप्‍पणियां:

  1. कही शीर्षक उल्टा तो नही हो गया :
    "नोबेल को ओबामा पचा नहीं"
    आप तो पूरे कार्टूनिष्ट हो गये
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  2. इनको चाहिये हमदर्द का हाजमोला। या फ़िर कोई तगड़ा जुलाब।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दूसरो की खुशहाली से जलने वालों के साथ यही होता है |

    बढ़िया कार्टून :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. भाई ये बात तो हमें भी पच नहीं पायी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. भाइ सब कुछ पचा जाना भी तो आसान नही है
    ये तो सत्ता के आगे समर्पण है
    अमर उजाला मे पुष्पेश पंत जी का लेख पढा इस विषय पर
    और मै उन से सहमत हुए बिना नही रह सका

    उत्तर देंहटाएं
  6. भाई मजबूत मेदे वालों की बात अलग है अपन को तो पच नी रिया है। कोई शक्तिशाली पाचक चूर्ण मिले तो बात बने।

    प्रमोद ताम्बट
    भोपाल
    www.vyangya.blog.co.in

    उत्तर देंहटाएं
  7. इसमें पचाने जैसा क्या है? उनसे कहिए जरा देख भाल कर कुछ निगला करें। अब नोबेल की औकात केवल सामान्य ज्ञान के प्रश्नों तक सिमट कर रह गयी है। किसी खेल के परिणाम की तरह।

    उत्तर देंहटाएं
  8. कल मैनपुरी से आगरा जाते में फिरोजाबाद वाले जैन साब का 'खाना हज़म चूर्ण' की एक शीशी ले ली थी, बहुत काम आई !

    उत्तर देंहटाएं
  9. डाक्टर साहब से कोई दवाई मिले तो बताना.. कुछ लोगो को देनी है.. बेचारो से एक पोस्ट नहीं पच रही है..
    मुझे तो मज़ा आ रहा है. .

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुछ चीजें धीरे धीरे पचती हैं........

    समय के साथ ...............

    वैसे न भी पचे तो कोई बड़ी बात नहीं ....बाबा रामदेव इसका भी हल बता देंगे..

    उत्तर देंहटाएं
  11. अभी तक हाजमोला ले रहा हूँ . बात इसीलिए पच नहीं रही है की बिना प्रयासों के शांति नोबेल हथिया लिया है ...हा हा ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. शीर्षक व कार्टून का भेद वर्मा जी ने सही पकड़ा.... बहरहाल सही खबर ली....

    उत्तर देंहटाएं
  13. लिजीये ईहे नहीं पच रहा है ..अब तो सुने हैं कि ओबामा को औस्कर ....गोल्डेन ग्लोब..बूकर...और ई सब टाईप का ,पुरुस्कार भी मिलने वाला है..देखिए जब नोबेल बारे में नहीं पूछे तो ई बार भी नहीं पूछियेगा कि काहे..

    उत्तर देंहटाएं
  14. इनका हाजमा तगड़ा है सब पच जायेगा ।

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण