बुधवार, दिसंबर 24, 2008

ज्ञानदत्त जी से प्रेरित

दिन भर कोई काम न करना ।
आप ऊबने से मत डरना ।
काम करो तो करना धीमे ।
होता है बस सृजन इसीमें ।
सृजन तेज ना हो पाएगा ।
सारा कार्य व्यर्थ जाएगा ।
ऊब ऊब कर महान बनना ।
होकर बोर गर्व से तनना ।
अरे आज की पीढी जागो ।
आप ऊबने से मत भागो ॥

24 टिप्‍पणियां:

  1. दिन भर कोई ब्लोग न पढ़ना!
    अगर पढ़ो तो टिप्पणी मत करना!

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक सोई रही पीढी आवाहन करती हैं
    जागो उठ कर सोने वालो नयी पीढी मे उबने वालो
    सोने और उबने का अधिकार सिर्फ़ हमारा हैं

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे आज की पीढी जागो ।
    आप ऊबने से मत भागो
    आज का नारा जागो जागो ...बहुत खूब

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह, चलो कुछ नया करते हैं। आज कुछ ऊबा जाये! :-)

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह वाह ..बहुत खूब रही.....चलिए हम भी कुछ नया करे...

    उत्तर देंहटाएं
  6. इब समझ म्ह आया कि आज उबने को दिल क्यों कर रहा है ? शायद आप का उपदेश ही यह सब करवा रहा है ! अब आज के बाद तो शुक्रवार छोडकर छुट्टियां ही हैं सो हम तो आपको धन्यवाद देते है कि आपने याद दिला दिया ! सो अब हम तो चले उबने .. मेरा मतलब छुट्टियाने !

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या बात है भाई आज कुछ मिल भगत के पोस्ट लिखी है सबने .....ज्ञान जी पर बड़ी लम्बी टिप्पणी चेपी है .इसलिए यहाँ सिर्फ़ ......जम्हाई छोड़ कर जा रहा हूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  8. ऊब हो रही है टिप्पणी करने मे . फिर लिखूंगा तब तक आराम बड़ी चीज़ है मुँह ढक के सोयिये

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. लिखी पोस्ट और काम कह रहे
    अपना ऊंचा नाम कर रहे
    ऊब-सूब पर कविता लिखकर
    सबका काम-तमाम कर रहे
    स्वप्नलोक में जो बैठे हैं
    उन्हें ऊब से काहे डरना
    लिखें ब्लॉग पर उम्दा कविता
    लोगों को हलकान कर रहे

    विवेक जी से प्रेरित.
    :---) :---)

    उत्तर देंहटाएं
  11. अब ये ऊब संक्रामक बन फैलेगी -तय है !

    उत्तर देंहटाएं
  12. दरअसल आपकी यह कविता अच्छी है किंतु अगर परिप्रेक्ष्य ना समझें तो अर्थ का अनर्थ समझ आयेगा .
    मैंने 'आज की पीढी 'से जो आपने लिंक दिया हैउसे पढने के बाद जब आपकी कविता पढी तो भावार्थ बदल गया .
    और अच्छी लगी .गूढ़ विषय को रोचक बना दिया आपने .

    उत्तर देंहटाएं
  13. प्रेरक कविता है, ऐसी रचनाएं कम ही पढने को मिलती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  14. जागने और जगाने वाला ही फल पाएगा
    ऊब से जो उबरेगा वही उबटन-जल पाएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  15. ऊब हो रही है इसलिए टिप्पणी .....धीरे....धीरे.......क्योंकि सृजन इसी में है

    उत्तर देंहटाएं
  16. विवेक जी,
    आज तो गजबे ना हो गिया।
    एक ठो टेलीपेथिया कुछ होता है, सुने थे। आज ऊस पे विश्वासे हो गिया आपका पोसटवा पढके।
    तब्हें आज ससुर सुबहे से ही जो जम्हाई सुरु हुई है जो सुरु हुई है तो पुछिये मत, मुंहवां बंदे नहीं हो रहा था। यदी ऊब ऐइसा होता है तब तो बहूत ही मजेदार होता है।

    उत्तर देंहटाएं

  17. क्या ऊब महामारी फ़ैली है.. ब्लागजगत में ?

    उत्तर देंहटाएं
  18. इसे कहते हैं
    " बात निकलेगी तो दूर तलक जायेगी "
    कविता अच्छी लगी जी
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  19. ye kya ho gaya bhai sab ek sath kaise ubne lage!hamara thoda sarvar daun hai!

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुनो भाई साधो
    उंगो नही जागो दुश्मन जाग रहा है . हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  21. ye to badi kamaal ki baat keh di aapne boriyaate boriyaate...Ranjan ji ki pratikriyaa ne bhi hasaa diyaa :)

    vyang mein meri pehli koshish ko yahaan padhe:

    http://pyasasajal.blogspot.com/2008/12/blog-post_26.html

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण