शनिवार, मार्च 20, 2010

एक बार फिर आ गौरैया









आज फुरसतिया की ओर टहलने चले गए तो पता चला कि वे कविता का मसौदा लेकर बैठे हैं । हमें अपने आशुकवि होने पर बड़ी लाज आयी । हालांकि हम लाज के मारे लाल तो नहीं हुए पर सोच में अवश्य पड़ गए कि ऐसे लम्बे लम्बे झिलाऊ लेख लिखने वाले लोग कविता लिख रहे हैं तो हम क्यों नहीं लिख सकते ? बस बैठे और गौरैया के नाम दस मिनट कर ही दिये आज के । कविता हाज़िर है:


एक बार फिर गौरैया

तेरी बहुत याद आती है
यूँ तो रूठ जा गौरैया

बचपन की यादों में शामिल
तेरे बिन वे यादें बोझिल
तेरे दर्शन को बेकल दिल
सूरत जरा दिखा गौरैया
एक बार फिर गौरैया

तेरे पीछे धमाचौकड़ी
कतना के नीचे रख लकड़ी
एक बार धोखे से पकड़ी
अब वह खता भुला गौरैया
एक बार फिर गौरैया

देख प्रदूषण मत हो शक्की
एक बात है बिल्कुल पक्की
हमने काफी करी तरक्की
तू भी खुश हो गा गौरैया
एक बार फिर गौरैया

दिन यह तेरे नाम कर दिया
बहुत बड़ा यह काम कर दिया
तुझको आज सलाम कर दिया
पंख जरा फैला गौरैया
एक बार फिर गौरैया

तेरी बहुत याद आती है
यूँ तो रूठ जा गौरैया

एक बार फिर गौरैया !

6 टिप्‍पणियां:

  1. गौरैया देखो आती है तुम्हारे झांसे में कि नहीं!

    वैसे हम कविता का मसौदा लिखे थे। कविता थोड़ी लिखनी है। योजना आयोग वाले कार्यान्वयन का काम थोड़ी करते हैं। हमने मसौदा बनाया और तुमने लिख मारी कविता इसका मतलब मसौदा झकास है। :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब गौरैया नहीं आयेगी....मैंने मना कर दिया है,,,,
    .....................
    विश्व गौरैया दिवस-- गौरैया...तुम मत आना..
    http://laddoospeaks.blogspot.com/2010/03/blog-post_20.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. देख प्रदूषण मत हो शक्की
    एक बात है बिल्कुल पक्की
    हमने काफी करी तरक्की
    वाकई तरक्की है तभी तो गौरैया को आज बुलाने की नौबत आ गयी है.
    और फिर वे दस मिनट तो नायाब निकले

    उत्तर देंहटाएं
  4. विश्व पटल से धीरे धीरे तिरोहित होती हुई गौरैया के आह्वान के लिए बहुत सुन्दर रचना ! बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण