सोमवार, सितंबर 22, 2008

विधाता को यही मंज़ूर था

एक बार किसी सुनसान राह पर कुछ अनजान लोग चले जा रहे थे । भादों का महीना था । आसमान में घने काले बादल थे और रह रह कर बिजली का चमकना सबको सहमा रहा था । अचानक तेज वर्षा की झडी ने कुछ लोंगों को पास ही स्थित एक छोटे मंदिर में शरण लेने को विवश कर दिया । वे सात लोग थे और मंदिर में मुश्किल से ही समा रहे थे । पर होनी को कुछ और ही मंज़ूर था । बिजली बार बार चमकती और हर बार लोगों को अपने पास आग की लपट का अहसास होता । बडी विकट स्थिति थी । जान के लाले पडे थे । सभी किंकर्तव्यविमूढ थे । तभी उनमें से एक बोला ," साथियो लगता है बिजली हम में से किसी की बलि लेना चाहती है । एसा न हो कि किसी एक की आई में सब मारे जाएं । इसलिए बेहतर यही होगा कि एक-एक कर सभी मंदिर से बाहर जाकर एक परिक्रमा करके वापस आजाएं । जिसकी आई होगी उसी को बिजली ले जाएगी ।"
सहमति हो गई . जिसने यह सुझाव दिया था वही सबसे पहले गया . किसी तरह परिक्रमा पूरी करके वापस आगया तो बाकी बचे छ: लोगों की धड़कनें बढ़ गईं । हर बार जब कोई सलामत वापस लौटता तो बाकी बचे लोगों को मौत की आहट सुनाई देने लगती । इसी तरह दूसरा, तीसरा, चौथा, पाँचवाँ और छ्टा भी हिम्मत करके एक एक कर बाहर गए और वापस आगए । अब सातवें को मौत साक्षात सामने खड़ी दिखाई दे रही थी । वह बाहर कैसे जाता ? बाकी लोगों की मिन्नतें करने लगा । बोला ," दोस्तो मैं अगर बाहर गया तो मेरा मरना निश्चित है । यह आप सब भी भली भाँति जानते हैं । क्या एसा नहीं हो सकता कि आप सभी के पुण्यों के सहारे मेरी भी जान बच जाय ?" किन्तु वहाँ उसकी सुनने वाला कोई न था । "जान न पहचान, हम क्यों अपनी जान एक अजनबी के लिए ज़ोखिम में डालें ?" सब लोग एक स्वर में बोले ," तुम्हें जाना ही होगा ।" वह रोने गिडगिडाने लगा । पर उनके हृदय न पसीजे । बिजली का चमकना जारी था । अन्त में उसको धक्के मार कर बाहर निकाल दिया गया । मरता क्या न करता, वह वहाँ से बेतहाशा भागा । जब वह मंदिर से पर्याप्त दूरी पर पहुँच गया तो अचानक बिजली गिरी । किन्तु यह क्या ? वह बच गया । बिजली उस पर नहीं बाकी छ: लोगों पर गिरी थी । वे मर चुके थे । विधाता को यही मंज़ूर था ।

6 टिप्‍पणियां:

  1. बताओ, उसी के कारण बाकी ६ बचे हुए थे...चलो, होनी को कौन टाल सकता है. आधा दर्जन दिवंगतों को श्रृद्धांजलि.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Vivek Bhai, Sahi kaha gaya hai ki kabhi kabhi hame kuchh pata nahi hota hai ki prakriti kya chahati hai...

    http://dev-poetry.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण