शनिवार, जून 13, 2009

स्वप्नलोक में फ़िर स्वागत है !



फ़ेर न पायें जिन्हें पाठ वे,
जल्दी बहुत विसरते हैं .
एक बार फ़िर से बतला दो,
ब्लॉगिंग कैसे करते हैं .
तारतम्य सा टूट गया है,
कोई विषय नहीं मिलता .
कीचड़ है मौजूद अभी भी,
लेकिन कमल नहीं खिलता .
जिस ब्लॉगिंग बिन चैन नहीं था,
उसको छोड़ जिये कैसे ?
परखा स्टेमिना स्वयं ही,
निकल गए इस लत में से .
प्रथम सूत्र यह फ़ुरसतिया का,
पालन हुआ सफ़लता से .
कार्य कठिन था फ़िर भी हमने,
पूरा किया चपलता से .
निपटाये सब काम जरूरी,
अब फ़िर से फ़ुरसत पाई .
चलो गिरा दें सब दीवारें,
और पाट दें सब खाई .
स्वप्नलोक में फ़िर स्वागत है,
सपने फ़िर से देखेंगे .
शायद अब हम जल्दी जल्दी,
यहाँ हाज़िरी दे देंगे ..

33 टिप्‍पणियां:

  1. उफ़ कहाँ गए थे vivek भाई..
    आप हमसे यूँ जुदा हो के..
    सपनो का क्या कहें..
    नींद चली गई खफा हो के..

    आये वापस तो मन किया...
    आपके ब्लॉग को गले लगा लूँ मैं..
    कल से सपने देखेंगे..
    क्या सारे जहां को बता दूं मैं..

    विवेक भाई..सिर्फ एक वादा कर दो..अब यूँ न जाओगे रूठ कर...

    उत्तर देंहटाएं
  2. शायद शब्द हँटा करके हो ब्लागिंग की शुरूआत।
    सुन्दर सपने स्वप्न लोक के तभी बनेगी बात।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail

    उत्तर देंहटाएं
  3. चलिये आप आ गये । तसल्ली हुई । सपने देखने वालों की जरूरत है यहाँ बहुत ।
    हम भी निरन्तर हाजिरी लगायेंगे । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप चले तो आये पर मेरा मन अब मुरझाता है
    जाने क्यों मुझे भी जगत यह रास नहीं आता है

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर। जय हो। बहुत अच्छा। लगे रहो।

    उत्तर देंहटाएं
  7. wow..
    nice poem..
    mean koi aise vishay per bhi poem likh sakta hai..
    mai to soch hi nahi sakti.. :D
    u r so creative..so ur poems..
    mujhe tukant kavitaye bahut pasant hai..kyonki unko padhne kaa apne ek maza hai..

    welcome back.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बढ़ीया.. मन खुश हो गया...

    उत्तर देंहटाएं
  9. स्वागत है विवेक जी ! बहुत खुशी हुई आपकी वापसी पर !

    उत्तर देंहटाएं
  10. स्वागत है। अब हम भी स्वपनलोक मे रोज़ हाज़िरी देगे।

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक कविता सिर्फ कविता जैसी सुन्दर्

    उत्तर देंहटाएं
  12. फ़ेर न पायें जिन्हें पाठ वे,
    जल्दी बहुत विसरते हैं .
    एक बार फ़िर से बतला दो,
    ब्लॉगिंग कैसे करते हैं .
    बहुत बढ़िया आपका स्वागत है .

    उत्तर देंहटाएं
  13. स्वप्नलोक में फ़िर स्वागत है,
    सपने फ़िर से देखेंगे .
    शायद अब हम जल्दी जल्दी,
    यहाँ हाज़िरी दे देंगे ..

    स्वागत है विवेक जी आपका.............. आप दिल से दूर गयी ही नहीं थे कभी.......

    उत्तर देंहटाएं
  14. अरे भाई मुझे पता था आप जरुर वापिस आयेगे, क्योकि आज कल इतनी लू जो चल रही है फ़िर टंकी पर गर्मी भी तो खुब लगती होगी.
    चलिये आप का फ़िर से स्वागत है, अब आईंदा हमारे साथ ही रहे, यह एक परिवार सा बन गया है इस से दुर रह पाना अब कठिन है, लडो झगडो लेकिन रुठॊ नही.
    मुझे बहुत खुशी हुयी आप की वापसी की, मेरे मजाक को सिर्फ़ मजाक ही समझना बुरा ना मनाना ऊपर लिखी बातो का.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  15. अरे विवेक भाई,
    कल हममे आपस के कैसी अजीब सी गलतफहमी बन गयी, मिलते-मिलते रह गए. चलो आपकी बात बड़ी हो गयी, हम ही आते हैं जल्दी ही पानीपत.

    उत्तर देंहटाएं
  16. लागी छूटे ना......:) भई विवेक जी, हमारी ओर से भी स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. लिखो, कम लिखो, मत लिखो पर सदा साथ बने रहो। आपका लौटना हर्षदाई है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. khoob achha svaagat ho raha hai....aur kyon naa ho...likhte rahiye

    उत्तर देंहटाएं
  19. पुनर्वापसी का स्‍वागत है !!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. विश्वास हुआ की पुनर्जन्म भी होता है

    उत्तर देंहटाएं
  21. kahi kuch kami lag rahi thi blog jagat me aapke bina..... swagat hai

    उत्तर देंहटाएं
  22. विवेक जी आपने बहुत ही सुंदर कविता लिखा है!

    उत्तर देंहटाएं
  23. पैदल चलना और ब्लागिंग, जो एक बार कर ले, फिर भूल नहीं सकता. वापसी पर कविता के माध्यम से जो कुछ कहा, उसे पढ़कर मन प्रसन्न हो गया.

    जय हो.

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण