शनिवार, सितंबर 20, 2008

वोट की राजनीति यह

राजनीति यह वोट की, जी का है जंजाल ।
थी अंत्येष्टि शहीद की, समय न पाए निकाल ।
समय न पाए निकाल, जो अंत्येष्टि में जाते ।
वोट-बैंक को अपना मुँह कैसे दिखलाते ? ।
विवेक सिंह यों कहें, बनी है नाशनीति यह ।
जी का है जंजाल वोट की राजनीति यह ॥

9 टिप्‍पणियां:

  1. राजनीति इन नेताओं की वजह से नाशनीति‍ बन गई है, वर्ना राजनीति‍ तो व्‍यवस्‍था के लि‍ए एक अनि‍वार्य पहलू था।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा हुवा कोई नेता नही आया , कम से कम एक शहीद की पार्थिव देह तो नेताओं के गंदे हाथ लगने से बच गई |

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस शहीद की समाधि पर अगर देश के नेता जाते
    धर्मनिरपेक्ष महान देश में "सेक्युलर" कहलाते ?

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज का जोशीला शेर ----

    आतंकियों के घर पर जाकर मातम मनायेंगे नेता
    आतंकियों की यही आखिरी निशान होगा

    उत्तर देंहटाएं
  5. नालायक हैं सब नेता-सटीक टिप्पणी की है इस रचना से.

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण