रविवार, दिसंबर 21, 2008

नाम, रूप, गुण कैसे कैसे !


जब नाम से किसी को जानें ।
किंतु रूप से ना पहचानें ॥
तो अजीब स्थिति होती है ।
मन में एक मूरत होती है ॥
जैसा नाम रूप, गुण वैसे ।
लोग मान लेते हैं ऐसे ॥
नाम, रूप, गुण, कार्य मिलें सब ।
लेकिन ऐसा होता है कब ?
सत्य सामने जब आता है ।
अक्सर मन चकरा जाता है ॥
शेरसिंह कुत्तों से डरते ।
जलसिंह पानी में न उतरते ॥
झूठ बोलकर दाम कमाते ।
लेकिन हरीचन्द कहलाते ॥
शांतिस्वरूप क्रोध करते हैं ।
भीष्म लडकियों पै मरते हैं ॥
हर्ष विषादग्रस्त रहते हैं ।
सुखपाल भी दुखी रहते हैं ॥
नाम कबीर पूजते मूरत ।
सुन्दर को देखा बदसूरत ॥
बलराम की हुई बरबादी ।
राधा से हो गई है शादी ॥
मोहनचन्द दूसरे भाई ।
राधा जी उनकी भौजाई ॥
कैसे कैसे मिले अजूबे ।
साहूकार कर्ज़ में डूबे ॥
अमर बिचारे स्वर्ग सिधारे ।
जंगजीत जूए में हारे ॥
तेजसिंह का काम है धीमा ।
चक्कर खा गिर पडता भीमा ॥
काला अक्षर भैंस बराबर ।
इनका नाम रहा विद्याधर ॥
गलती से पड गए जो छींटे ।
लछिमन रामचन्द को पीटे ॥
कर्ण जरा ऊँचा सुनते हैं ।
लक्की अपना सिर धुनते हैं ॥
राजकुमार लगाता ठेला ।
दानवीर ने दिया न धेला ॥
साधूराम डकैती डालें ।
लाखों का सामान पचा लें ॥
शीतल को लगती है गर्मी ।
धरमवीर सा नहीं अधर्मी ॥
मेघराज पानी को तरसे ।
बादल अब तक कभी न बरसे ॥
दारासिंह हड्डी के ढाँचे ।
शिवशंकर जी कभी न नाचे ॥
विश्वनाथ अनाथालय में ।
लता न गाती बिल्कुल लय में ॥
नन्हे खाँ दिखते हैं फूले ।
झूलेलाल कभी ना झूले ॥
दयावती को दया न आई ।
करी सास की खूब पिटाई ॥
ऐसा पृथ्वीराज मिला है ।
भूमिहीन में नाम लिखा है ॥
कल्लोदेवी देखीं उजली ।
चन्दा तारकोल की पुतली ॥
यादराम जी की लाचारी ।
इन्हें भूलने की बीमारी ॥
कुलभूषण की बात सुनाएं ।
दुराचार कुछ कहे न जाएं ॥
कुल की साख लगाया बट्टा ।
सत्यनारायण खेलें सट्टा ॥
नाम नयनसुख देखे भेंगे ।
कुँआरे दूल्हेराम मरेंगे ॥
पर कुमार की दो-दो शादी ।
आशा घोर निराशावादी ॥
अन्नपूर्णा मरती भूखी ।
मृदुला की बातें हैं रूखी ॥
परमानन्द दुखी बेचारे ।
लाख प्रयत्न किए पर हारे ॥
बेटे का दिमाग है खिसका ।
होशियारचन्द नाम है जिसका ॥
ध्यानचन्द जी कभी न खेले ।
टाँग तुडाकर बैठे पेले ॥
अर्जुन बडे युधिष्ठिर छोटे ।
लाखन को रुपयों के टोटे ॥
घोर गरीबी ऐसी छाई ।
जाने कैसी किस्मत पाई ॥
धनीराम यूँ जीवन काटें ।
सेठ भिखारी कर्ज़ा बाँटें ॥
श्रवण कुमार झगडते माँ से ।
बुड्ढे को ले जाओ यहाँ से ॥
इसका सरक गया है भेजा ।
इसको वृद्धाश्रम में लेजा ॥
लज्जा देवी नहीं लज़ाती ।
नहीं इमरती मीठा खाती ॥
ऐसे भी जगपाल यहीं हैं ।
घर में आटा दाल नहीं है ॥
बेचारे ये रोज कमाते ।
तभी शाम को खाना खाते ॥
घर में मित्र प्रकाश आगया ।
बत्ती गुल अंधेर छागया ॥
किस्मत के मिट सके न लेखे ।
ज्ञानदत्त अज्ञानी देखे ॥
गौर वर्ण के देखे कल्लू ।
नाम विवेक मगर हैं लल्लू ॥
अत: सज्जनो नाम है जैसा ।
आवश्यक न रूप, गुण वैसा ॥

28 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात है |
    छा गए गुरु |
    जथा नाम तथा गुण शायद सतयुग में भी नहीं था |

    उत्तर देंहटाएं
  2. कंडा थोपे लक्ष्मी ,हल जोते धनपाल
    अमर सिंह तो मर गए हम रह गए ठन ठन गोपाल .

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह क्या बात है | आज तो लट्ठ गाड़ दिए हो विवेक जी !

    उत्तर देंहटाएं
  4. नाम कर्म लेखा खोल बैठे हैं आज तो। रविवार का खूब सदुपयोग किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. नयन सुख जी सूरदास और करोड़ीमल जी भिखारी तो सुने थे, पर आपकी लिस्ट बहुत लम्बी है!

    उत्तर देंहटाएं
  6. कमाल कर दिया भाई आज तो ! नई नई बातें बताई आपने ! सच मे मजा आगया और विचार करने पर आपकी बात सौ प्रतिशत खरी लगी !
    राम राम !

    उत्तर देंहटाएं
  7. स्क्रोल डाउन करते करते थक से गये नामों की महिमा पढ्ते. बहुत ही सुंदर. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  8. अरे वाह ! बहुत मेहनत करके लिखा है.....सबको पसंद आ रही है....बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बढ़िया है विवेक भाई आपकी रचना में रवानगी है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. लल्लू को इस कल्लू की बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  11. रसगुल्ले में पडी़ खटाई
    लम्बी बिछ गई दरी चटाई
    वाह वाह वा वा विवेक भाई
    बात मगर है बड़ी सुझाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह! बढ़िया है । बिल्कुल सही कह रहे हैं आप। देखिए, घुघूती केवल सपनों में है उड़ती !
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  13. विवेक जैसा नाम वैसा गुण . एक यही नाम अपवाद है इस लम्बी लिस्ट मे . बहुत विवेकशील हो लल्लू

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सोच के सारी लिस्ट तैयार की है नामोँ की - वाह !

    उत्तर देंहटाएं
  15. कहां कहां से नाम ढुढे है भाई..
    हर एक नाम की वाट लगाई

    उत्तर देंहटाएं
  16. नाम विवेक मगर हैं लल्लू ॥
    अत: सज्जनो नाम है जैसा ।
    आवश्यक न रूप, गुण वैसा
    " हा हा हा हा , कमाल की रचना ....काबिले तारीफ..."

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  17. अरे भाई विवेक जी, क्या बात है. हमें भी सिखा दो ये कविगर्दी. हम भी लिख तो सब कुछ लेते हैं लेकिन ससुरे ये श्लोक ही नहीं लिखे जाते.

    उत्तर देंहटाएं
  18. ज्ञानदत्त अज्ञानी देखे ॥

    अब इसका क्या मातबल है समझाओ... और हा इस जबरदस्त पोस्ट के लिए बधाई लेजाओ

    उत्तर देंहटाएं
  19. bahut mast vivek jee...bahut khub rahi.....maza aa gaya phad ker...

    उत्तर देंहटाएं
  20. झकास है बीडू......लिस्ट भी ओर लिस्ट लगाने वाला भी.....दीवार में जरा ढंग से चिपकाना !

    उत्तर देंहटाएं
  21. kya bat hai bahut sundar!
    vivek bahi aap jis kampani or jis jagah rahte hai mai vahan pahle rahta tha!lekin ab mera duti badal gaya to mai idhar aa gaya!

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह विवेक जी ! मज़ा आ गया ! हँसाने के लिए शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं
  23. छा गए गुरु..छा गए.
    अद्भुत लेखन है. आनंद आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  24. कहते कहते रुक गयी क्यों कुछ जुबान हुज़ूर की
    मुझको थी उम्मीद मेरा नाम लब पर आयेगा

    वैसे विवेक का विवेक तो सही चल रहा है .
    कोई कुछ कह ना सके इसलिए पहले ही लल्लू बन गए

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण