शुक्रवार, सितंबर 12, 2008

अरे सीनियर ब्लॉगरो !

अरे सीनियर ब्लॉगरो, कर दो लिखना बन्द ।
कार्यभार सब छोड़कर, आप करो आनन्द ।
आप करो आनन्द, सिर्फ टिपियाते रहना ।
मानो नेक सलाह बाद में फिर मत कहना ।
विवेक सिंह यों कहें, "सलाह थी ये तो झूठी ।
कहीं न सचमुच कलम टाँग देना अब खूँटी ॥"

9 टिप्‍पणियां:

  1. सही है सही है :) :)

    वीनस केसरी

    उत्तर देंहटाएं
  2. हम तो समझे तो चलो फुर्सत मिली पर
    ये क्या हमारी खुशी पल भर में आप ने चूर कर दी.
    ये अच्छा मज़ाक नहीं था. :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह- वाह विवेक जी,
    मैं तो अपने आप को लेखन मैं बहुत छोटा समझती हूँ वरना जरुर लिखना बंद कर देती. नेक सलाह के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह,क्‍या बात कही आपने। एक दो साल तक टि‍का रहा तो ये सलाह मान लूँगा। (अभी तो जूनि‍यर ब्‍लॉगर हूँ ना। कलम घि‍से बीना काम नहीं चलता।)

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीतेन्द्र जी से १०० फीसदी सहमत

    उत्तर देंहटाएं
  6. जीतेन्द्र जी से १०० फीसदी सहमत

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण