शुक्रवार, अक्तूबर 30, 2009

न जाओ मकर वृत्त की ओर

चले तुम मकर वृत्त की ओर ?

कर्क वृत्त वाले यूँ ताकत
ताके, जैसे चाँद चकोर
चले तुम मकर वृत्त की ओर ?

तुम्हें मकर वालों की चिन्ता
किन्तु हमारा हक है छिनता
कोई वहाँ तुम्हें है गिनता ?
वहाँ पर हो जाओगे बोर
चले तुम मकर वृत्त की ओर ?

वहाँ गये तो पछताओगे
जाकर वहाँ लात खाओगे
वापस लौट यहीं आओगे
मकर वाले हैं अति लतखोर
चले तुम मकर वृत्त की ओर ?

वहाँ सुरक्षित रह न सकोगे
उस धारा में बह न सकोगे
हाल स्वयं का कह न सकोगे
कष्ट का कोई ओर न छोर
चले तुम मकर वृत्त की ओर ?

तुम बहकावे में मत आओ
मसला बैठ यहीं सुलझाओ
क्या दिक्कत है हमें बताओ
बड़े हो तुम अब नहीं किशोर
चले तुम मकर वृत्त की ओर
?

हमसे यूँ मत रूठो संगी
बातें करो न ये बेढंगी
साथ सहेंगे सब सुख-तंगी
हम, इस बगिया के मोर
चले तुम मकर वृत्त की ओर ?

तेज धूप भी हमने झेली
रहे झुलसते हम सब डेली
फिर भी सदा सीख तुमसे ली
उठाओ मत यह कदम कठोर
न जाओ मकर वृत्त की ओर

कर्क वृत्त वाले यूँ ताकत
ताके, जैसे चाँद चकोर
चले तुम मकर वृत्त की ओर ?

9 टिप्‍पणियां:

  1. कष्ट का कोई ओर न छोर
    तो फिर कहां है अपना ठौर??????

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये ‘कर्क’ और ‘मकर’ में का अन्तर भवा भाई...?
    पहली बार आपकी कविता कछू ना समझ में आई:(

    उत्तर देंहटाएं
  3. कौन मकर... कैसा मगर... कहाँ गया.. कहाँ जा रहा है...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बात ज़रा ख़ुलकर के कह दो
    इंगित किया कहाँ किस ओर ?
    जिसको मकर वृत्त हो कहते
    उस पर जाती कर्क की डोर !
    जुगराफ़िया कहाँ कमज़ोर ?
    पुनि-पुनि देखो चहुँ-चहुँ ओर !!
    हा हा।
    खै़र।
    बहुत उम्दा कटाक्ष, विवेक भाई। ग़ज़ब लिखा आपने, भाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुझे पहिले से मालूम हवा की विवेक भइया गगनविहारी भी हौवें !

    उत्तर देंहटाएं
  6. ई क्या भाई! कल रात अरविन्द मिश्र जी कुछ लिखे ऊ न बुझाया और अब तुम! सब रहस्यवाद की तन्ख्वाह पा रहे हो का आजकल!

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्यों ना जाये मकर वृत्त की ओर.. वहां कोई ब्लोगर सम्मलेन हो रहा है क्या...??

    उत्तर देंहटाएं
  8. hasy vyang saralata se vilay hote dekhe aapakee rachana me. kitanee aasanee se kar lete hai mushkil aasan ? badhai !

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण