रविवार, अक्तूबर 04, 2009

टाइटन को जानिए

आपने टाइटन की घड़ी अवश्य देखी होगी . टाइटैनिक जहाज के डूबने के बारे में भी सुना होगा . इसी तरह  शनि ग्रह के एक उपग्रह का नाम भी टाइटन है .

दर असल यह टाइटन नाम यूनान के पौराणिक साहित्य से लिया गया है . देवी पृथ्वी ( जी ) ने अपने पुत्र यूरेनस ( आकाश का देवता ) के संसर्ग से जिन छ: पुत्र और छ: पुत्रियों को सबसे पहले जन्म दिया . वे सभी बड़े ही बलवान और विशालकाय थे . इन सभी को  टाइटन कहा गया . हेसियड की थियोगोनी के अनुसार टाइटन बारह ही थे लेकिन कुछ प्राचीन यूनानी ग्रन्थों में अन्य टाइटनों का उल्लेख भी मिलता है .

टाइटनों में सबसे छोटा क्रोनोस हुआ जो सबसे अधिक शक्तिशाली भी था . यूरेनस के अत्याचारों से तंग आकर जी ने अपने इस पुत्र को उसके विरुद्ध उकसाया  . क्रोनोस भी यूरेनस के बढ़ते अत्याचारों से दु:खी था . उसने अपने पिता को अपद्स्थ करके टाइटनों  के राज-सिंहासन पर अधिकार कर लिया, और यूरेनस को नपुंसक बनाकर छोड़ दिया गया .

क्रोनोस ने अपनी बहन रिआ ( Rhea ) को अपनी पत्नी और महारानी बनाया . रिआ को धरती और उत्पादकता की देवी माना जाता है . इसका चिन्ह चन्द्रमा और हंस है . क्रोनोस अपनी पैदा होने वाली अधिकतर संतानों को खा जाता था . लेकिन  रिआ ने अपने पुत्र जियूस के स्थान पर क्रोनोस को कपड़े में लपेट कर पत्थर का टुकड़ा दे दिया जिसे वह निगल गया . इस प्रकार जियूस बच गया जिसने आगे चलकर अपने अत्याचारी हो चुके पिता को प्रसिद्ध टाइटनों और ओलम्पियनों के युद्ध में हराया . इस युद्ध के बाद क्रोनोस का साथ देने वाले टाइटनों को तारतारस ( पाताल लोक या नरक ) में बन्दी बनाकर भेज दिया गया .

उम्र में सबसे बड़े टाइटन ओकीनोस(Oceanus) ने अपनी बहन टेथीज(Tethys) को पत्नी बनाया, और पूरी पृथ्वी के जल, झरनों, नदियों और  समुद्र का स्वामी हुआ . टेथीज को धरती पर जल का समान वितरण करने वाली देवी माना जाता है . इसने झरनों और नदियों को जन्म दिया .

इसी प्रकार अन्य टाइटन भाई बहनों ने भी आपस में विवाह किए और पति-पत्नी बने .

टाइटनों की दूसरी पीढ़ी को ओलम्पियन कहा गया . ओलम्पियनों की संख्या भी बारह बताई जाती है . ये यूनान के प्रसिद्ध ओलम्पिक पर्वत के आसपास रहा करते थे .

यूनानी मान्यता के अनुसार यह स्वर्ण-युग था . इसके बाद रजत-युग ताम्र-युग आदि आते हैं .

 

अपनी-बात

 

  कुछ पाठकों ने जिज्ञासा प्रकट की है कि यह कौन सी कंपनी है जिसका जिक्र स्वप्नलोक पर बार-बार होता है ? इस जिज्ञासा को समय आने पर शान्त किया जाएगा . तब तक अन्य पाठक  भी ज्ञान जी की भाँति अपने हिसाब से इस कंपनी के बारे में स्वतंत्र होकर सोचें .

 

हमारा मानना है कि ये सूर्य देव, चन्द्र देव आदि जो प्राकृतिक चीजें हैं इन्हें महात्मा गांधी मार्ग , इंदिरा गांधी विश्व-विद्यालय आदि की भाँति प्राचीनकाल में  तथाकथित देवताओं ने नामांकित कर दिया होगा . हो सकता है जिन महापुरुष के नाम पर सूर्य का नामकरण हुआ हो उन्हें हनुमान जी ने काट खाया हो . और मुश्किल से लोगों के कहने पर उन्हें छोड़ा हो . 

8 टिप्‍पणियां:

  1. "हमारा मानना है कि ये सूर्य देव, चन्द्र देव आदि जो प्राकृतिक चीजें हैं इन्हें महात्मा गांधी मार्ग , इंदिरा गांधी विश्व-विद्यालय आदि की भाँति प्राचीनकाल में तथाकथित देवताओं ने नामांकित कर दिया होगा . हो सकता है जिन महापुरुष के नाम पर सूर्य का नामकरण हुआ हो उन्हें हनुमान जी ने काट खाया हो . और मुश्किल से लोगों के कहने पर उन्हें छोड़ा हो "

    Sahi hai ekdum. Acha kasa hai aapne. :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. " उसने अपने पिता को अपद्स्थ करके टाइटनों के राज-सिंहासन पर अधिकार कर लिया, और यूरेनस को नपुंसक बनाकर छोड़ दिया गया "

    तो यूनान में भी मुग़लिया उठा पटक चलती थी:)

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन जानकारी के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपको बहुत दिनों बाद देखा बहुत ख़ुशी हुई। आप कहाँ चले गए थे इस बात पर काफी चिंता रही। साथ ही आपका रोचक जानकारी वाला लेख भी अच्छा लगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. टाइटन के बारे में मौज ले रहे है या सिरियस है? :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक और मुगलिया खानदान की जानकारी देने के लिये धन्यवाद.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण