मंगलवार, नवंबर 04, 2008

कुँआरी लडकी नीचे खडी

सुनिए मेहरबानो सुनिए ।
गाड़ी आपकी जाने वाली है ।
वक्त थोड़ा खाली है ।
चार बातें काम की बताएंगे ।
आशा है घर जाके आप खूब लाभ उठाएंगे ।
जब कोई कुँआरी लडकी नीचे खडी हो जाती है ।
तो बेमतलब का झमेला हो जाता है ।
आदमी असल को भूल जाता है ।
ब्याज के लिए सिर खपाता है ।
करना कुछ और होता है ।
कर कुछ और देता है ।
राह से भटक जाता है ।
खामख्वाह लड़ाई मोल लेता है ।
अपने स्वजनों को दुश्मन समझने लगता है
दिन में परेशान रहे रातों को जगता है ।
कुँआरी लड़की नीचे खडी किसी के भी बीच हो सकती है ।
पति पत्नी में हो जाय ।
प्रेमी प्रेमिका में हो जाय ।
क्या देर लगती है ।
पिता पुत्र के बीच हो जाय,
सास बहू में हो जाती है ।
फालतू मन मुटाव हो
घर तुडवाती है ।
बडे बडे शहरों में अक्सर ये होता है ।
सज्जन खुश रहें तो दिल दुर्जनों का रोता है ।
औरों की खुशी को ये देख नहीं सकते हैं ।
कुँआरी लडकी नीचे खडी होने की राह तकते हैं ।
इंतजार करते हैं ।
जल जल के मरते हैं ।
कुँआरी लडकी नीचे खडी जब खुद नहीं होती है ।
तो खुद ये काम करते हैं ।
अवसर मिलते ही छोटी बडी जैसी भी हो सके ।
सज्जनों के बीच कुँआरी लडकी नीचे खडी पैदा करते हैं ।
मौका ए वारदात से चुपके खिसक जाते हैं ।
दूर खडे होकर नजारा करते हैं ।
क्योकि पास रहने से भेद खुलने से डरते हैं ।
मैनें हिन्दी से काम चलाया अब तक लेकिन ।
अंग्रेजी न बोला तो कुँआरी लडकी नीचे खडी हो जाएगी
आपके और मेरे बीच भी ।
अंतिम हथियार का इस्तेमाल करते हैं ।
अंग्रेजी में आप से ये सच बयान करते हैं ।
ताकि हो नके कोई मिस अण्डर स्टैण्डिंग दोस्तों के बीच ,
कि ये वक्त थोडा खाली है ।
न दी किसी को गाली है ।

16 टिप्‍पणियां:

  1. वाह भाई वाह...

    पहले तो लगा कि 'शिष्य' आज दार्शनिकता झाड़ रहा है. (वही कुवारी लडकी नीचे खड़ी हो गई थी.).....लेकिन बाद में पता चला कि ये तो दार्शनिकता से भी आगे का कुछ था.

    बहुत मस्त.

    उत्तर देंहटाएं
  2. पति पत्नी में हो जाय ।
    प्रेमी प्रेमिका में हो जाय ।
    क्या देर लगती है ।
    पिता पुत्र के बीच हो जाय,
    सास बहू में हो जाती है ।
    फालतू मन मुटाव हो
    घर तुडवाती है ।

    बहुत शानदार ! शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बड़ी गहरी रचना रच गए, कविवर विवेक सिंह!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. पहली बार आया हूँ काफी अच्‍छा लगा,

    उत्तर देंहटाएं
  5. पहले तो मुझे लगा कि‍ यह कोई नारी वि‍मर्श है, पर अंत मे"कुँआरी लडकी नीचे खडी" दूर हो गई।
    मजेदार भाषाई खि‍लवाड़:)

    उत्तर देंहटाएं
  6. पहले तो मुझे लगा कि‍ यह कोई नारी वि‍मर्श है, पर अंत मे"कुँआरी लडकी नीचे खडी" दूर हो गई।
    मजेदार भाषाई खि‍लवाड़:)

    उत्तर देंहटाएं
  7. धत तेरे की। हम पूरी पोस्ट में कुंवारी लड़की को खोजते रहे। मिले तो पता चला मिस अण्डरस्टैंडिंग हैं। बहुत बदमास लड़के हो भाई। गनीमत है कि कुंवारे नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  8. भाषाई खिलंदडी में आपका जवाब नहीं। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. भौंपू जी की याद दिला दी
    वो अक्सर मंच पर इसे लतीफे के रूप में सुनाया करते थे
    आपने बढ़िया जामा पहनाया
    आपको बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस तरह की रचनाओं की जरुरत सभी ब्लागर्स को भी होती है...जहाँ पढ़कर ...मन हल्का हो जाता है...कुंवारी लड़की जो साथ खड़ी होती है ...वो चली जाती है....! रचो खूब रचो...विवेक जी.

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण