शुक्रवार, अक्तूबर 23, 2009

तहाँ तहाँ ते आ दाते हैं

तहाँ तहाँ ते आ दाते हैं

तलते थेद उती थाली में
दितमें में लथ थाना थाते हैं
तहाँ तहाँ ते आ दाते हैं

तलते बत अपनी मनमानी
औलों ती बातें बेमानी
बत ये ही तो बते हैं द्यानी
अपनी बात तहे दाते हैं
तहाँ तहाँ ते आ दाते हैं

विनम्लता ते बैल पुलाना
दो दी में आये तह दाना
इधल लदाना उधल बुदाना
त्वतल्तव्य तलते दाते हैं
तहाँ तहाँ ते आ दाते हैं

औलों तो इमोतनल तलते
त्वयं उदाती ते भी दलते
अत्तहास ते तान ततलते
बात बात पल मुतताते हैं
तहाँ तहाँ ते आ दाते हैं

अपना पतधल लोत न पाये
नदल हमाली ओल धुमाये
बतन्त देथा तो ललताये
ये तब त्या अत्थी बातें हैं ?
तहाँ तहाँ ते आ दाते हैं

बैथे इलाहाबाद में दातल
बोले थूब दोत में आतल
हुतैन हम ना हुए वहाँ पल
दहाँ बैथ तब बतियाते हैं
तहाँ तहाँ ते आ दाते हैं !

24 टिप्‍पणियां:

  1. बैथे इलाहाबाद में दातल
    बोले थूब दोत में आतल

    उधल जोलदाल चल्चा चल लही है भ्राता:)

    उत्तर देंहटाएं
  2. निथ्त्तु है,ताम होता तो तलते,
    इस तलह वत्त त्यों दाया तलते,
    थंदम पर बैथ मुत्लाते है,
    तहाँ तहाँ ते आ दाते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  3. विनम्रता से बैर पुराना
    जो जी में आये कह जाना
    इधर लगाना उधर बुझाना
    स्वकर्त्तव्य करते जाते हैं, कहाँ कहाँ से आजाते हैं

    अपनी बात कहे जाते हैं , शाबाश विवेक सिंह !

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये भाषा/बोली तो हम भूल ही गए थे। याद कराने का धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह क्या बात है आजकल नित नए प्रयोग हो रहे है :)

    इस भाषा में भी यह रचना खूब रही |

    उत्तर देंहटाएं
  6. तलते थेद उती थाली में
    दितमें में लथ थाना थाते हैं
    तहाँ तहाँ ते आ दाते हैं

    विवेक जी आपका ये प्रयोग तो निराला है ....

    प्रयोग जारी रखें ... बहुत पसंद आया ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह! बहुत ही बढ़िया!
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  8. तहाँ तहाँ ते आ दाते हैं लोद?

    लामलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  9. हमाली तिप्प्णी इत्ती तम तैसे हो दई थलदाल?

    लामलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  10. पहेली बुझना है क्या कि ये कौन है??

    उआ यूँ ही कविता...नया प्रयोग और इसकी मौलिकता आकर्षित करती है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. हमतो थमद में नहीं आय़ा ।

    तहां थे आ दाते हैं ?

    उत्तर देंहटाएं
  12. इसे तो वाचिक रूप मे ही सुनने मे मज़ा आता मिलने पर याद दिलाइयेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. अगर इसको गाकर अपलोद कल दें तो ओल मदा आ जागा।

    उत्तर देंहटाएं
  14. मदा आ दया।था दये गुलू।ऐथे ही लिथा तलो,थम्दे ती नई।

    उत्तर देंहटाएं
  15. कतम थोले वाले थूरमा दोपाली की...

    न दाने कां कां से आ दाते हैं...

    तार रुपये में लकलियां नहीं पूला जंदल खलीदेंगे...

    बिबेक बाई को बूल दए ता...जंदल ते बाहल पहले ते दो बैते हैं...

    दय दिंद...


    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  16. Are yah bhasha to hame patahee nahee thee..! Itnee niragas, jaise totla bachha bol raha ho...maza aa gaya is bolee se parichit hoke!

    उत्तर देंहटाएं
  17. टाइम मशीन मिल गयी है aisa lagta hai...
    जो itni jyada rewind हो गयी..

    उत्तर देंहटाएं
  18. कहा कुछ नही और सबकुछ कह डाला

    उत्तर देंहटाएं
  19. विवेक जी सौ में से सौ नंबर दिए आपको आपकी इस रचना के लिए...तुतलाते हुए बहुत बड़ी बड़ी बातें कर गए हैं आप और वो भी किस खूबी से ...वाह...ये कमाल आपके ही बस की बात है...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण