रविवार, जुलाई 11, 2010

Tiger's Nightmare

प्रस्तुत कविता बच्चे के स्कूल के लिए लिखी गई थी, ताकि वह इसे मंच पर सुना सके । लेकिन लिखने के बाद लगा कि कुछ गम्भीर हो गई । इसलिए स्कूल के लिए दूसरी कविता लिखने का प्रयास जारी है । इसे ब्लॉग पर डाल दिया है । पड़ी रहेगी । क्या पता कोई पढ़ ही ले ।
Tiger

“Though I have done no mistake,
Excuse me for God’s sake.
I am poor, you are great.
You are master of my fate.


But remember always that,
human, lion, dog or cat,
all creatures are same for God.
No sound is, in his rod.



He, who will afflict others,
will be facing horrid curse.
Killing weak is not correct.
This is universal fact.”



Listening this the hunter said,
“Don’t teach me good and bad.”
Gun fire ! but no scream ?
Thank God it was a dream !

6 टिप्‍पणियां:

  1. Oh! That's excellent! But human beings,do what you may,are going to consider themselves as superior to other beings!

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिंदी ब्लॉग पर अंग्रेजी कविता? घोर अन्याय है अपनि हिंदी पर। लीजिए हम ठीक किए देते हैं:)

    गलती मेरी नहीं है काफी
    प्रभुजी दे दो फिर भी माफी
    मैं गरीब तू बड़ा महान
    भाग्यविधाता लूँ मैं मान

    पर इतना तुम रखना ध्यान
    नर, नाहर, बिल्ली और श्वान
    सबको रखता एक समान
    मौन प्रहार करे भगवान

    जिसने परपीड़ा पहुँचाई
    वह अभिशप्त रहेगा भाई
    निर्बल को मारन है पाप
    दुनिया कहती सुन लो आप

    सुन उपदेश शिकारी भड़का
    ले बन्दूक जोर से कड़का
    धाँय-धाँय... पर नहीं तड़पना
    शुक्र खुदा का यह था सपना

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे भाई,
    अंग्रेज मत बनो। तुम्हारे यहां तो वही पुराना वाला स्टाइल मस्त लगता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. पढ ली ये अलग बात है कमेन्ट हिन्दी मे कर रहे हैं। शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  5. पढ़ा भी और अच्छी भी लगी बहुत आपकी कविता ...

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण