बुधवार, जनवरी 28, 2009

विश्वामित्र लुटे बेचारे


आज सुनाएं एक कहानी ।
अभी याद है मुझे जुबानी ॥
मेरे गुरु कहा करते थे
सूकरखेत रहा करते थे ॥
विश्वामित्र इन्द्र से रूठे ।
रहे सहे सम्बन्ध भी टूटे ॥
विश्वामित्र ऋषि थे ज्ञानी ।
सोच समझकर मन में ठानी ॥
तख्ता पलट इन्द्र का करना ।
उसके लिए तपस्या करना ॥
बना लक्ष्य उनके जीवन का ।
लिया उन्होंने आश्रय वन का ॥
घोर तपस्या वे करते थे ।
इससे इन्द्र सदा डरते थे ॥
सोच सोचकर इन्द्र थक गए ।
चिंता में सब बाल पक गए ॥
सभी अप्सराएं अजमाईं ।
बारी बारी सभी पठाईं ॥
किंतु तपस्या टूट न पाई ।
नारद ने तब युक्ति सुझाई ॥
देवराज क्यों व्यर्थ परेशाँ ।
इसे तोडना तो है आसाँ ॥
विश्वामित्र ब्लॉग लिखते हैं ।
लेकिन अभी नए दिखते हैं ॥
टिप्पणियों को ना ललचाते ।
केवल पोस्ट ठेलते जाते ॥
भेजो आप उन्हें टिप्पणियाँ ।
लगो जोडने उनकी कडियाँ ॥
पहले मारो थोडा मस्का ।
लेकिन जब लग जाए चस्का ॥
टिप्पणियों में गाली देना ।
तीखी लगने वाली देना ॥
विश्वामित्र सभी भूलेंगे ।
सिर्फ बिलागिंग में झूलेंगे ॥
याद रहेगी नहीं तपस्या ।
कर डालो बस देख रहे क्या ॥
विश्वामित्र लुटे बेचारे ।
एक बार फिर से वे हारे ॥
कुछ भी ब्लॉगिंग में न मिला था ।
किंतु इन्द्र को चैन मिला था ॥

29 टिप्‍पणियां:

  1. वाह जी.. विवेक जी.... चोक्खी स्पीड पकल्ली....

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह विवेक जी, गध्य का पध्य कर डाला.. बहुत मजा आया..शिव जी की पोस्ट के बाद उसीका दुसरा ्रुप..

    उत्तर देंहटाएं
  3. vivek bhai,
    shiv jee ke post padhne ke baad aapko padha, bilkul aisaa laga ki interval ke baad hee film kaa paisa vasool hua hai. bhaiyaa is swarg kee kahani to hamein bhee swargwaasee hone ka aanand de gayee.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अरे विवेक जी,
    मेरी तो ये ही समझ नहीं आया कि इस बिलोगिंग में विश्वामित्र लुटे या इन्द्र?

    उत्तर देंहटाएं
  5. अब रम्भा मेनका उर्वर्शी की हकीकत भी बयान कर दीजिये|!

    उत्तर देंहटाएं
  6. घणी जोरदार कह दी बात. बेचारे विश्वामित्र !!!

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  7. टिप्पणी न हुई मेनका हो गई . लीजिये विवेकमित्र मै भी टिप्पणी रूपी मेनका भेज रहा हूँ अपनी बची हुई इज्ज़त बचाइए

    उत्तर देंहटाएं
  8. आज तो आपकी कविता पढ़कर मजा आ गया ! बेचारे विश्वामित्र !

    उत्तर देंहटाएं
  9. सही है..लगे रहो..लम्बाई नपने में ज्यादा फासला बचा नहीं है अब!! :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. aap ka bhi jawab nahi puri ki puri kahani ki kavita kar dali.....par ye indra aur vishwamitra ki ladai aap longon ko kisne batai.......kya aap log bhi indra ka blog padhte hain ya phir indra ne aap ke blog par tippadi ka dali....

    उत्तर देंहटाएं
  11. न रहे इन्द्र न रहे विश्ववामित्र ब्लागिंग की गली में सरक गए ...नारायण नारायण हरी ॐ

    उत्तर देंहटाएं
  12. टिप्पणियों में गाली देना ।
    तीखी लगने वाली देना ॥
    "गुरु जी एक आध example / sample paper भी दे देते तो आगे के लिए शिष्यों को थोड़ा आसानी हो जाती.....हा हा हा हा हा हा हा "

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  13. आगे से आपके आलेखों पर टिप्पणी करते समय ध्यान रखेंगे।:)

    उत्तर देंहटाएं
  14. ना विश्वामित्र लुटे ना ही इन्द्र ....लुटे तो हम टिप्पणी करने वाले

    उत्तर देंहटाएं
  15. मुसाफिर जाट ने यक्ष प्रश्न किया है भाया !

    उत्तर देंहटाएं
  16. पहले मारो थोडा मस्का ।
    लेकिन जब लग जाए चस्का ॥
    टिप्पणियों में गाली देना ।
    वाह वाह जी वाह ..................
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  17. Bahut Khub...badhai.
    गाँधी जी की पुण्य-तिथि पर मेरी कविता "हे राम" का "शब्द सृजन की ओर" पर अवलोकन करें !आपके दो शब्द मुझे शक्ति देंगे !!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. सारे देवी देवता
    हिन्दी ब्लोग जगत मेँ
    तशरीफ रखे दीखे हैँ
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  19. खूब कही । अच्‍छी बन पड़ी है ।
    लगे रहें... :)

    यह तपस्‍या इतनी आसानी से पूरी नहीं होने वाली।

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह! वाह!
    अति सुन्दर. कविता अद्भुत है. विश्वामित्र की तपस्या टूटती रहनी चाहिए. इन्द्र के लिए यही ठीक है.

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण