सोमवार, अगस्त 03, 2009

हमारी पहली रिफाइनरी-डिगबोई

बात अंग्रेजों के जमाने की है । असम के घने जंगलों में असम रेलवेज एण्ड ट्रेडिंग कंपनी द्वारा रेल लाइन बिछाने का काम चल रहा था . घने जंगलों से कुछ हाथी गुजर रहे थे । हाथियों को कच्चे तेल में लथपथ देखकर कंपनी के इंजीनियर को पेट्रोलियम की मौजूदगी का आभास हुआ । और वह सहसा अंग्रेजी में खुशी से चिल्लाया, "Dig boy ! Dig " । कहा जाता है कि इसी से इस स्थान का नाम डिगबोई रखा गया । यह बात 1866 की है ।

चूँकि इस कम्पनी को पेट्रोलियम के क्षेत्र में कोई अनुभव न था इसलिए 1889 में असम ऑइल कंपनी की स्थापना की गयी । इसी साल भारत में पहला तेल कुआँ खोदा गया । इसी असम ऑइल कंपनी द्वारा 1901 में डिगबोई रिफाइनरी की स्थापना हुई । 1981 में संसद ने कानून बनाकर असम ऑइल कंपनी को इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन लिमिटेड में विलय कर दिया । और यह इंडियन ऑइल कंपनी का असम ऑइल डिवीजन कहलाया ।

वर्तमान में यह विश्व की सबसे पुरानी रिफ़ाइनरी है जो चल रही है । इसकी रिफाइनिंग क्षमता को 0.5 MMTPA(Million Metric Tonne Per Annum) से बढ़ाकर 0.65 MMTPA कर दिया गया है । डिगबोई रिफ़ाइनरी के लिये कच्चा तेल असम ऑइल फील्ड्स से मुहैया कराया जाता है और इसके उत्पाद पूर्वोत्तर भारत के राज्यों में खपाये जाते हैं ।

22 टिप्‍पणियां:

  1. डिगबोई का नाम तो बहुत सुना था पर इसके नाम के पीछे के कारण का पता चला
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. चीनी आक्रमण के समय यह नाम काफ़ी चर्चित था। अच्छी जानकारी। आभार॥

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये भी गजब है जी। डिग ब्वाय से डिगबोई बन गया!

    उत्तर देंहटाएं
  4. हां जी आपकी यह डिबोई हमने कई बार देखी है. यानि हमारे चरण वहां पड चुके हैं..आगे आप सोच लिजिये.:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  5. भूल सुधार :

    डिबोई = डिगबोई पढा जाये.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मुझे तो मालूम नहीं था डिग बॉय के बारे मैं | अच्छा किया यार बता दिया |

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर जानकारी. बहुत-बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  8. गुरु चेंज कर के ज्ञान जी को बना लिया क्या.. ?

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी और ज्ञानवर्धक जानकारी

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक और विषय पर बडिया पोस्ट बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. अच्छा, मैं असमिया शब्द समझता था - यह डिग ब्वॉय निकला।

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण