गुरुवार, अगस्त 20, 2009

आपका स्टेमिना कमाल


आपका स्टेमिना कमाल ।
मचाते रहिये सदा धमाल ॥
हिन्दी ब्लॉगिंग केन्द्र-बिन्दु हो ।
अजी आप तो मौज सिन्धु हो ॥
गलती रहे आपकी दाल ।
आपका स्टेमिना कमाल ॥
पाँच साल से लगे हुए हो ।
किस खूँटी से टँगे हुए हो ?
लटके कैसे इतने साल ?
आपका स्टेमिना कमाल ॥
यूँ तो चर्चाकार कई हैं ।
किन्तु सदा उपलब्ध नहीं हैं ॥
आप सेवा देते तत्काल ।
आपका स्टेमिना कमाल ॥
नए बिम्ब की तलाश करते ।
टाँग खींचकर तुरत मुकरते ॥
किसी से नहीं ठोंकते ताल ।
आपका स्टेमिना कमाल ॥
टंकी पर जब लोग पधारें ।
समझाकर तब आप उतारें ॥
फ़ैलता रहे आपका जाल ।
आपका स्टेमिना कमाल ॥
किन्तु आजकल कम ही दिखते ॥
कृपया रोज बजाएं गाल ।
आपका स्टेमिना कमाल ॥
मचाते रहिये सदा धमाल !
आपका स्टेमिना कमाल !

20 टिप्‍पणियां:

  1. बिलकुल कमाल है अनूप जी कमाल है स्टेमिना तो है ही कमाल वह तो चर्चा में ही दिख जाता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. Oh..sach hai!

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://baagwaanee.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाकई, कमाल का स्टेमिना है जी..शायद च्यवनप्राश खाते होंगे. :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. च्यवनप्राश अब गुज़रे ज़माने की बात हो गई है आजकल सफ़ेद मूसली हिट है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बधाई जी एक पंचवर्षिय योजना पुर्ण करने के लिये.

    जय हनुमान ज्ञान गुण सागर.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जय हो! क्या-क्या कविता ठेल देते हैं जी आप। पढ़कर तमाम लोग कविता करने लगते हैं। आपकी कविता में दिव्य शक्ति कुछ है जरूर। बांचते ही लोगों की दबी-कुचली कविता भड़ से बाहर आ जाती है !
    हमारे धमाल पर जौहर कलम दिखाने के लिये शुक्रिया। :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. दिनेश जी मेरे मन की बात कह गये ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. इन दिनों आपका भी स्टेमिना धाँसू है !

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह! वाह!
    एक वाह अनूप जी के लिए और दूसरी इस कविता के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  10. दिनेश जी ने मेरे मन की बात छीन ली.

    उत्तर देंहटाएं
  11. फुरसतिया जी का स्टैमिना तो कमाल है ही!
    बढिया कविता लिखी है लेकिन यदि आरती टाईप में लिखते तो शायद ओर अधिक बढिया लगती:)

    उत्तर देंहटाएं
  12. विवेक जी, सबसे पहले तो आपका धन्यवाद. मेरी पोस्ट पर टिप्पणी करने के लिए आपका आभार. आशा है, भविष्य में भी ऐसे ही मेरा हौसला बढ़ाते रहेंगे.

    सुन्दर कविता.बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  13. विवेक जी स्टेमिना तो आपका भी कम नहीं लगता | अगली पोस्ट में इस स्टेमिना का राज भी लिख देना |

    उत्तर देंहटाएं
  14. स्‍टेमना तो चाहि‍ए ही भई वर्ना ब्‍लॉग से लॉग ऑउट होते देर नहीं लगती:)

    उत्तर देंहटाएं
  15. कौन सी विटामिन की सप्लीमेंट लेते है भाई गुरु तुम्हारे .....

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण