शनिवार, जनवरी 24, 2009

रामदास कहलाए


बिना बिचारे जो करे, रामदास कहलाय ।
हाईकोर्ट खारिज करे जो भी कदम उठाय ॥
जो भी कदम उठाय चित्त में तानाशाही ।
शायद आनन फानन में चाहें वाहवाही ॥
विवेक सिंह यों कहें मंत्री कैसे कैसे ।
घिसट घिसटकर देश चल रहा जैसे तैसे ॥


27 टिप्‍पणियां:

  1. वाह वाह ....विवेक जी वाह क्या खूब कही !

    उत्तर देंहटाएं
  2. अराजक तरीके से मनमानी करने का नतीजा तो यही होना था।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह! वाह! सही है.
    बिना बिचारे जो करे रामदास कहलाय

    उत्तर देंहटाएं
  4. करते हैं तारीफ हम तेरी मित्र विवेक
    तुम मुझको लगते सदा हो लाखों में एक
    हो लाखों में एक, सत्य हर रचना तेरी
    तेरे सम्मुख झुकती जाए गर्दन मेरी
    कह "नीरज" कविराय ब्लॉग के तुम हो राजा
    तुम को पढ़ कर सच हम हो जाते हैं ताजा

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये जो ऊपर नीचे सिगरेट लगा दी है ना आपने...चार चांद..

    उत्तर देंहटाएं
  6. @ नीरज जी ,

    आप चने के पेड पर, मुझको रहे चढाय ?
    अविश्वास सा हो रहा, इतना आदर पाय .
    इतना आदर पाय बढ रहे भाव हमारे .
    हम पहले ही नतमस्तक हैं सम्मुख थारे .
    विवेक सिंह यों कहें ,आपका वरदहस्त हो .
    फिर क्या चिंता मोइ लिखूँगा सदा मस्त हो .

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत आस है इनसे; राम के दास जो हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  8. खूब सुलगेगी अब तो....जब मिल बैठेगे रामू ओर रामदास

    उत्तर देंहटाएं
  9. भाई हमें रामदास नहीं बनना इसलिए कमेंट बहुत सोच समझकर दे रहे हैं

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपने तो डरा ही दिया....बहुत सोंचसमझकर कमेंट कर रही हूं....अच्‍छा लिखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सही कुण्डली रच रहे हैं..बहुत उम्दा!

    उत्तर देंहटाएं
  12. देश चल रहा है?..

    आप कह रहे है तो चल ही रहा होगा..

    जै राम दास की..

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी कुण्‍डली तो 'जनवाणी' है।
    शानदार।

    उत्तर देंहटाएं
  14. कह गये कवि विवेक सारी बात बड़ी चतुराई से
    रामदास भये पानी-पानी धुँयें की परछाई से

    उत्तर देंहटाएं
  15. लगे रहो तुमको मंत्री बना देंगे! फिर बाद में हम चुनाव लड़ेगे!

    ---आपका हार्दिक स्वागत है
    गुलाबी कोंपलें

    उत्तर देंहटाएं
  16. यही आश्चर्य है कि देश चल कैसे रहा है..?
    रामदास की भली चलायी!

    खूब बटोरें वाह वाही ,आप बस बोल के दोहे |
    रामदास से मुक्ति दिला दो ,देश बोल गया मोहे||

    उत्तर देंहटाएं
  17. सटीक और धारदार्।गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  18. kya yahi purn satya hai gantantrik bharat ki? agar satya hai to kaun badlega is bharat ko?

    उत्तर देंहटाएं
  19. लिखते रहो बबुआ। जो तारीफ़ कर रहें उनकी बात मान ही लो!

    उत्तर देंहटाएं
  20. घिसट घिसट कर देश चल रहा जैसे तैसे
    क्योंके सब रहने वाले हैं ऐसे वैसे

    उत्तर देंहटाएं
  21. बिना बिचारे जो करे, रामदास कहलाय ।
    हर बात लिखे कविता ,वह विवेक कहलाये

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण