शनिवार, जनवरी 10, 2009

छीछालेदर हो गई

छीछालेदर हो गयी, खत्म हुई हडताल ।
कांग्रेस सरकार का, हुआ न बांका बाल ॥
हुआ न बांका बाल पड गए अफसर ढीले ।
त्राहि त्राहि मच गई हो गए कपडे गीले ॥
विवेक सिंह यों कहें जोश हो गया है ठण्डा ।
नए जमाने में न चला हडताली फण्डा ॥



पेश हैं कुछ हायकू
मुख्यमंत्री हैं ।
चुनाव हार गए ।
शर्म न आई ॥
हडताल की ।
मगर डर गए ।
वापस लेली ॥
जाडा ज्यादा है ।
बचके रहना जी ।
जुकाम न हो ॥
घोटाला किया ।
खुद उगल दिया ।
बेचारे राजू !!

25 टिप्‍पणियां:

  1. विवेक जी आपने कमाल कर दिया बहुत बडिया लगे रहिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. घोटाला किया ।
    खुद उगल दिया ।
    बेचारे राजू !!
    "ओये राजू ऐसा काम ना करियो, भांडा तो फुट जाता है....."
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  3. चारो हायकूस के लिए 100 नंबर... जबरदस्त जबरदस्त जबरदस्त..

    उत्तर देंहटाएं
  4. हड़ताल का औचित्य समझ न आया। नेगोशियेशन में कुछ झटक पाये हों तो सामने नहीं आया। बाकी "त्राहि त्राहि मच गई हो गए कपडे गीले" तो जनता के हुये!

    उत्तर देंहटाएं
  5. भईये रिकार्ड तोड़ लिख रहे हो नए साल मे इतनी तेज़ी कमाल है .

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत शानदार हायकू लिखी जी, बधाई.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह हायकू पर भी बढि‍या हाथ आजमा रहे हैं।
    मजेदार।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहोत खूब लिखा है पहली कविता तो क्या करार जवाब दिया है आपने वह मज़ा आगे विवेक भाई ,
    हाइकु भी कमल के है सरे के सरे...ढेरो बधाई कुबूल फरमाएं...



    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  9. aapke IOCl me hone ke naate ham samajh sakte hain aapka gussa. waastav me hadtaliyon ki maang poori jaayaj hai..sarkaar ko mehnat karke profit kamaakar dene wali Companies ke employees ka dhyaan rakhna chahiye.

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्या बात है, हर शब्द इंकलाबी है!

    ---मेरा पृष्ठ
    गुलाबी कोंपलें

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह! वाह!
    बहुत शानदार!
    हायकू तो गजब हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  12. सही रचयिता हो लिये हो आजकल हर विधा में. बधाई मित्र.

    उत्तर देंहटाएं
  13. छीछालेदर हो गयी, खत्म हुई हडताल ।
    कांग्रेस सरकार का, हुआ न बांका बाल ॥
    बहुत सुंदर .....

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर हाइकू भी लिखते हैं, मालूम न था.
    बहुआयामी विवेक.

    उत्तर देंहटाएं
  15. अच्छा लिखा आपने. आप और अच्छा लिख सकते है.
    विनोद श्रीवास्तव

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही शानदार लिखा है ये हाइकु क्या होती है आज पता चला है पहली बार देखि है

    उत्तर देंहटाएं

  17. ख़ुद तेल वालों का
    निकल गया है तेल
    नाक कटाई आपनो
    हड़तलिया हुई गई फ़ेल


    बोलो.. हरि गंगा !

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह! हायकू अच्छे पीटे। लगे रहो हायकू में। हड़ताली कविता भी शानदार है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत खूब विवेक जी!
    हाइकु जम गए जबरदस्त!

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण