शनिवार, नवंबर 14, 2009

सोच रहा हूँ अच्छा बच्चा बन ही जाऊँ

ANANT


सोच रहा हूँ अच्छा बच्चा बन ही जाऊँ

बाल-दिवस पर ऐसा करना ठीक रहेगा
हाथ लगा यह अच्छा अवसर इसे भुनाऊँ
सोच रहा हूँ अच्छा बच्चा बन ही जाऊँ


गन्दा बच्चा बनने का अब फैशन बीता
गन्दे बच्चे की इमेज को लगे पलीता
करूँ नित्य कुछ पुण्य पढ़ूँ मैं कुरान-गीता
नीम, करेला छोड़ूँ अब शक्कर अपनाऊँ
सोच रहा हूँ अच्छा बच्चा बन ही जाऊँ


क्रोध उठाकर अलग ताक पर धरना होगा
वाणी पर कुछ कठिन नियन्त्रण करना होगा
श्रम का कुछ अच्छा परिणाम न वरना होगा
मन मन्दिर में एक तराजू भी लगवाऊँ
सोच रहा हूँ अच्छा बच्चा बन ही जाऊँ


इस दुनिया में पहले से ही ढेरों गम हैं
देखो तो हँसने के अवसर कितने कम हैं
जिसको देखें उसकी ही आँखें अब नम हैं
मैं क्यों दिल को दुखा एक गम और बढ़ाऊँ
सोच रहा हूँ अच्छा बच्चा बन ही जाऊँ


यूँ इतना आसान नहीं है अच्छा बनना
फिर भी कुछ प्रयास करने में कैसा डरना
फल देगा भगवान कर्म बस हमको करना
फिर क्यों चिन्ता करूँ व्यर्थ मन को उलझाऊँ
सोच रहा हूँ अच्छा बच्चा बन ही जाऊँ


बाल-दिवस पर ऐसा करना ठीक रहेगा
हाथ लगा यह अच्छा अवसर इसे भुनाऊँ
सोच रहा हूँ अच्छा बच्चा बन ही जाऊँ



चलते-चलते


Gyandutt



ज्ञानदत्त जी हो गये, चौवन साला आज ।

करत रहें ब्लॉगिंग सदा, कभी न आयें बाज ॥

कभी न आयें बाज, दुआयें लगें हमारी ।

करते ब्लॉगर-श्रेष्ठ बिलागिंग सबसे न्यारी ॥

विवेक सिंह यों कहें, मचाते मन में हलचल ।

इलाहबाद में बसें, सुनें गंगा की कलकल ॥

16 टिप्‍पणियां:

  1. चलिये आप अच्छे बच्चे तो बन ही गये , ज्ञानदत्त जी को आप ने इतने सुंदर ढंग से जो जन्म दिन की बधाई दी, हमारी तरफ़ से भी उन्हे बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. विवेक जी हम तो आपको पहले ही अच्छा बच्छा समझते हैं । ग्यान दत्त जी को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. हां बेटा, अच्छा बच्चा बने रहन... बाप पर मत जाना :)

    ज्ञानदत्त पाण्डेय जी को एक ठो बधाई इस ब्लाग के माध्यम से भी दे देते है उनके चिल्ड्रेन डे पर :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह वाह विवेक जी,
    क्या बात है!
    हम भी सोच रहा हूँ अच्छा बुड्ढा बन जाऊँ। हा हा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बिल्कुल सही विचार किया है...अच्छा बच्चा बनने का इससे बढिया मौका तो हो ही नहीं सकता....वहाँ बैठे चाचा नेहरू की आत्मा को भी थोडी शान्ती मिल जाएगी कि चलो किसी ने तो बालदिवस को सार्थक किया :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छे अच्छे बच्चे,
    तेरी मुठ्ठी में क्या है...
    मुट्ठी में है,
    ब्लॉगिंग की दुनिया सारी...
    (54 साल के चिरयुवा ज्ञानजी को एक बार फिर जन्मदिन की बधाई)

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  7. vivek jee badee sunder meaningful rachana aur janmdin kee wishes ka andaz bhee bada accha laga .

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छा होना अच्छा है, लगता इसमें दाम नहीं
    अच्छा बनते जाने से अच्छा कोई काम नहीं
    अच्छी सी तुकबन्दी पढ़कर दिन अच्छा हो जाता है
    अच्छा सा यह काम किया तो मन मेरा मुस्काता है

    अच्छी अच्छी बातें मन की मैं भी कविता से बतलाऊँ
    सोच रहा हूँ अच्छा ‘चच्चा’ बन ही जाऊँ :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह!क्या बात है!भई हम तो रोज़ यही सोचते हैं कि बच्चे रहते तो मज़े मे रहते।आप को बच्चा बनना की और ज्ञान जी को चौवन साला होने की बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. यूँ इतना आसान नहीं है अच्छा बनना
    फिर भी कुछ प्रयास करने में कैसा डरना
    फल देगा भगवान कर्म बस हमको करना
    फिर क्यों चिन्ता करूँ व्यर्थ मन को उलझाऊँ
    सोच रहा हूँ अच्छा बच्चा बन ही जाऊँ

    उत्तर देंहटाएं
  11. जबरदस्त छंद पे जबरदस्त रचना विवेक भाई....
    बहुत खूब!

    और ज्ञान जी को बधाई चौबन छूने पर!

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्रोध उठाकर अलग ताक पर धरना होगा
    वाणी पर कुछ कठिन नियन्त्रण करना होगा
    श्रम का कुछ अच्छा परिणाम न वरना होगा
    मन मन्दिर में एक तराजू भी लगवाऊँ
    nek khayal ko mann mein basati ek behtarin kavita.baar baar padhne ko mann karta hai.sunder.

    उत्तर देंहटाएं
  13. सब अनलर्न कर बालक बनना एक महर्षि बनने सरीखा कठिन कर्म है! :)

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस दुनिया में पहले से ही ढेरों गम हैं
    देखो तो हँसने के अवसर कितने कम हैं
    जिसको देखें उसकी ही आँखें अब नम हैं
    मैं क्यों दिल को दुखा एक गम और बढ़ाऊँ
    सोच रहा हूँ अच्छा बच्चा बन ही जाऊँ

    अच्छा बच्चा बनने की आपको ढेरों बधाई .....!!

    ज्ञानदत्त जी को भी जन्मदिन की शुभकामनाएं .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. पैदा होने के पहले अच्छा बनने का प्रयास!

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण