बुधवार, जून 23, 2010

समथिंग डिफ़रेण्ट करो जी

लाइफ में रखिए सदा, पॉज़ीटिव ऐप्रोच ।

ओल्ड थॉट्स को बेचकर, ब्रिंग होम न्यू सोच ॥

ब्रिंग होम न्यू सोच, ज़माना नया आ गया ।

अखिल वर्ल्ड स्टोरी में, न्यू ट्विस्ट आ गया ॥

विवेक सिंह यों कहें, ओल्ड को अलग धरो जी ।

दिल कहता है, अब समथिंग डिफ़रेण्ट करो जी ॥

18 टिप्‍पणियां:

  1. विवेक जी, आप आजकल रहते कहां हो? महीने बाद पधारे हो।
    मतलब समथिंग डिफ़रेण्ट तो नहीं कर रहे?

    उत्तर देंहटाएं
  2. Different karen? Tippanee na den? Ha,ha! Dekhiye nahi di!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बड़े दिन बाद आये ! नाराज थे क्या ?

    उत्तर देंहटाएं
  4. 1234 0740973 770-374 3413208 413297 4354
    45436
    76878
    0869

    4325457

    8
    78
    7
    55665
    8
    7679226776987

    +

    उत्तर देंहटाएं
  5. आई करा समथिंग डिफरेंट...

    एन्जॉय...

    उत्तर देंहटाएं
  6. accha jee ab samajh me aaya.....blog par hastakshar kyo nahee..............vaise paribhasha ke hisaab se sath saal se pooranee cheez antique ho jatee hai..............

    उत्तर देंहटाएं
  7. कर रहे है.. कर रहे है.. तनिक सांस तो लेने दीजिये..

    उत्तर देंहटाएं
  8. रंजन जी ने तो बिल्कुल ही डिफरेंट कर दिया..

    उत्तर देंहटाएं
  9. समथिंग डिफ़रेण्ट करो जी
    अजी हम तो सब कुछ ही डिफ़रेंट कर दे, लेकिन मोका ही नही मिलता

    उत्तर देंहटाएं
  10. इ तो टू मच डिफ़रेंटिया दिए आप

    उत्तर देंहटाएं
  11. आज तो वाकई डिफरेंट कर दिया जी आपने

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत खूब आनंद आ गया जी

    उत्तर देंहटाएं
  13. भाई इफ़ेफ़्टिव पोस्ट दिये हो बधाईयां आभार भी

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण