शनिवार, दिसंबर 27, 2008

युद्ध ही दिखता एक विकल्प ?

युद्ध ही दिखता एक विकल्प !

शांति के दरवाजे सब बन्द ।

मूर्ख होता जाता उद्दण्ड ॥

लगाता जाता प्रत्यारोप ।

चलाता नित्य झूठ की तोप ॥

बताता सब साक्ष्यों को गल्प ।

युद्ध ही दिखता एक विकल्प !

चाहता हर कोई बस युद्ध ।

दिख रहा जनमानस अतिक्रुद्ध ॥

बन गया है अब जो नासूर ।

चिकित्सा उसकी हो भरपूर ॥

तभी हो सकता कायाकल्प !

युद्ध ही दिखता एक विकल्प !

लगाकर बैठे हैं सब घात ।

पडौसी जो हैं उसके साथ ॥

अभी जो आस्तीन के साँप ।

कर रहे इंतजार चुपचाप ॥

लूटने का करके संकल्प !

युद्ध ही दिखता एक विकल्प ?

युद्ध का उठा सकेंगे बोझ ?

करेंगे मेहनत दूनी रोज ?

पिछडना है आपको कबूल ?

तरक्की जाएंगे सब भूल ?

मिलेगा भोजन भी अत्यल्प !

युद्ध ही दिखता एक विकल्प ?

9 टिप्‍पणियां:

  1. कारगिल युद्ध के बाद अटल जी को मिले बहुमत के कारण सत्ताधारी दल भी युद्ध का माहोल बना कर फायदा उठाना चाहेगा |

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ करना हो तो कर जाओ
    म्यान से गर निकाली तलवार
    तो दुश्मन के खून से प्यास बुझाओ

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस आवाज में हम भी साथ है!!

    वैसे इस बार युद्द नहीं हुआ तो इस जन्म में तो नहीं देख पायेगें!!

    रंजन

    उत्तर देंहटाएं
  4. विवेक जी नमस्कार,
    युद्ध ही दीखता एक विकल्प. भाई युद्ध होगा जहाँ होगा. लेकिन मुझसे युद्ध की कोशिश मत करना.
    अपनी ईमेल आईडी बता रहा हूँ. चुपचाप फोन नंबर लिख कर बता दो. फिर देखना युद्ध. हा हा हा.
    धन्यवाद.
    neeraj_panghal2008@yahoo.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. समसामयिक एवं विचारोत्‍तेजक कविता के लिए हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. खूब कही है आपने, अच्छी सोच है. लिखते रहिये.
    आपका दोस्त राजीव.

    उत्तर देंहटाएं
  7. भाई युद्ध के अलावा और कोई विकल्प ?


    रामराम !

    उत्तर देंहटाएं
  8. janaab main to yudh ki tarafdaari kabhi nahi karoonga...marenge aad aadmi hi,abhi sarhad ke is paar aansso hai fir us paar hoga...

    kisi tarah insaan insaan se pyaar karna seekh jaaye bas

    zara "mood" fresh karne ke liye ispe nazar daale:
    hasy-vyang mein ek koshish:
    http://pyasasajal.blogspot.com/2008/12/blog-post_5104.html

    उत्तर देंहटाएं
  9. सबक सिखाना बहुत जरूरी है। पर यह काम बाहुबल के बजाय बुद्धीबल से हो जाय तो ज्यादा अच्छा है। इसके लिये आर्थिक नाकेबंदी बेहतर विकल्प है और शायद ऐसा होने भी जा रहा हो। अपनी जर्जर एकानामी से कंगाली की हद तक पहुंचा पाक इस तरह के अंकुश से खुद ही नष्ट हो सकता है। इससे हमारे जवानों की अमूल्य जिन्दगियां भी दांव पर नहीं लगेंगी।
    और फिर नहीं तो हर-हर महादेव तो होकर ही रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण