बुधवार, सितंबर 02, 2009

क्या देह ही है सब कुछ ?

पिछले सप्ताह जब हम अखिल भारतीय कवि सम्मेलन देखने में व्यस्त थे तो मौके का फायदा उठाकर फुरसतिया अपना लगभग पाँच साल पुराना लेख 'क्या देह ही है सब कुछ ?' पुन: ठेलने में सफल हो गए । हमने उसी दिन निर्णय लिया कि हमें भी इस शीर्षक पर लेख जैसा कुछ लिखकर अपना नाम इतिहास में अवश्य ही दर्ज़ कराना है । आज वह मौका आ ही गया । तो आइये विचार करें :

क्या देह ही है सब कुछ ?

यह वाकई गुड क्वेश्चन की श्रेणी में आता है किन्तु इसमें प्रथम दृष्टया ही विरोधाभास अलंकार के दर्शन हो रहे हैं । 'सब' और 'कुछ' का भला क्या मेल ? हम यहाँ शब्दों के बाल की खाल निकाले बिना सीधे भावनाओं पर चढ़ जाते लेकिन शब्द का मतलब समझे बिना भावनाओं पर क्या खाक विचार करेंगे ? कबीर जी ने कहा है :

आब गयी आदर गया, नैनन गया सनेह ।
ये तीनों तब ही गये, जबकि कहा कछु देह ॥

इस दोहे से 'देह' शब्द का मतलब काफी हद तक स्पष्ट हो जाता है । 'देह' का अर्थ हुआ 'देना' । अब 'देह' के इस अर्थ को समीकरण में रखने पर प्रश्न बनता है 'क्या देना ही है सब कुछ ?' । अब यह प्रश्न कठिन नहीं रहा । सब कुछ भला कौन देना चाहता है ? आजकल तो ऐसे लोग भी उँगलियों पर गिने जा सकते हैं जो कुछ देना चाहते होंगे । और आप सब कुछ देने की बात करते हैं । किस युग में जी रहे हैं जी ? 'फेंक दूँगा पर किसी को दूँगा नहीं' यह मानसिकता आम है । जो सब कुछ दे चुका हो ऐसा आदमी तो हिमालय की किसी कंदरा में ढूँढ़ना पड़ेगा ।

देने वालों का हमारे देश में सर्वथा अभाव भी नहीं रहा । भारत का इतिहास ऐसे दानी लोगों की गाथाओं से भरा पड़ा है । देवासुर संग्राम में जब असुर देवताओं पर भारी पड़ने लगे तो इन्द्र को चिन्ता हो गई । सारे अस्त्र-शस्त्र फेल हो रहे थे । वृत्तासुर काल सरीखा बढ़ा आता था । ऐसे में में किसी ने बताया कि यदि महर्षि दधीचि की हड्डियों से वज्र बनाकर उससे वृत्तासुर पर प्रहार किया जाय तो उसका वध संभव है । इन्द्र के माँगने पर दधीचि ने सहर्ष अपनी देह का त्याग कर दिया । और वृत्तासुर का नाश हुआ ।

महाभारत में कर्ण भी दानी थे । उन्होंने जब अपनी देह से काट-काटकर कवच-कुंडल इन्द्र को दे दिये तो यह दान की पराकाष्ठा थी ।

यदि दूसरे दृष्टिकोण से देखें तो जहाँ देहू होता है वहाँ लेहू भी होता है । संक्षिप्त में कहें तो 'जहाँ देह वहाँ लेह' । लेह के पीछे हम चाहें तो लेह-लद्दाख तक जा सकते हैं पर जा नहीं रहे । आजकल भले ही देहुओं की तुलना में लेहुओं की संख्या हजारों गुना ज्यादा दिखाई दे लेकिन पहले देहू ज्यादा थे और लेहू बहुत कम । ऊपर के दोनों उदाहरणों पर ही विचाए कर लें । दो देने वाले और लेने वाले अकेले इन्द्र ।

दान देने वाला यदि दानी होने का गर्व करे तो उस दान का पुण्य नहीं मिलता । ऐसा शास्त्रों में लिखा है । दान ऐसे करें कि दाएं हाथ से दें तो बाएं हाथ को पता न चले । मतलब गुप्त-दान का बड़ा महत्व है । सेंटा क्लाज की कहानी में हमने यही पढ़ा कि उन्होंने एक गरीब हो गये जमींदार की सहायता गुप्त रूप से की ताकि उसके आत्म सम्मान को ठेस न लगे ।

कुछ केस में देने वाला देना चाहता है पर लेने वाले लेना नहीं चाहते । ऐसा अक्सर उन त्यौहारों पर होता है जिन पर लोग पुण्य कमाने हेतु राहगीरों को पानी पिलाने, खाना खिलाने आदि का कार्य करना चाहते हैं । बात खींचातानी तक भी पहुँचती देखी जाती है । हमारा मानना है कि ऐसी स्थिति में लेने वाला यदि ले ले तो यह इसलिए प्रसंशनीय है क्योंकि वह देने वाले को दानी होने के अहसास की खुशी दे रहा है ।

ऊपर देह शब्द का प्रयोग शरीर के अर्थ में भी हुआ है । इसलिए 'देह' के इस अर्थ को भी समीकरण में रखकर विचार किया जा सकता है । यह पहले भी कई विद्वानों द्वारा विचारित हो चुका है, तो हम जैसे लोग इस पर भला क्या खाकर विचार कर पायेंगे ?

25 टिप्‍पणियां:

  1. देह तो मजबूरी कर्म है असल इरादा तो लेह ही है |देह के पहले लेह है |
    इसको कहते हैं U टार्न मारकर फिर O टार्न मारना |
    वाह वाह वाह !!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका नाम तो पहले से ही इतिहास में दर्ज है। फिर यह सब कुछ तज कर इतिहास में पुनः नाम दर्ज कराने की ललक क्यों? जागो इतिहासकार जागो- कब तक स्वप्नलोक में पडे़ रहोगे:)

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह क्या विश्लेशन है बधाई इतिहास मे नाम दर्ज हो गया शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  4. चिंता काहे करते हैं...मैं इतिहास लिखने बैठूंगा तो आपका नाम दर्ज कर लूंगा!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. विवेक भाई, बड़ी पैनी नज़र है आपकी, भला इतिहास आपको नज़र-अंदाज़ करने की गुस्ताखी कैसे करेगा...मेरे ब्लौग पर हौसला-अफजाई के लिए शुक्रिया, रही बात अंडे-टमाटरों की तो क्यों न ऑमलेट ट्राई किया जाये.

    उत्तर देंहटाएं
  6. विवेक भाई, बड़ी पैनी नज़र है आपकी, भला इतिहास आपको नज़र-अंदाज़ करने की गुस्ताखी कैसे करेगा...मेरे ब्लौग पर हौसला-अफजाई के लिए शुक्रिया, रही बात अंडे- टमाटरों की तो क्यों न ऑमलेट ट्राई किया जाये.

    उत्तर देंहटाएं
  7. इसे कहते है अच्छी खासी पोस्ट की मा...चिस जलाकर छोड़ना..

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर विश्लेषण. बधाई. भाई हम तो टिप्पणी 'देह' का कार्यक्रम चलाते रहते हैं. और देह ही सबकुछ नहीं है इसलिए हम 'लेह' भी करते रहते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. विवेक जी,

    देह शब्द को श्लेष अलंकार के रूप में लेकर अब जब आपने 'देह' का अर्थ "देना" निकाल ही लिया है तो मैं कहूँगा कि आज के युग में भी "देह ही सब कुछ है" यदि आप गाली दे रहे हैं तो।

    वैसे श्लेष से शब्द से डॉ. सरोजनी प्रीतम की एक हँसिका याद आ गईः

    क्रुद्ध बॉस से
    बोली घिघियाकर
    माफ कर दीजिए सर
    सुबह लेट आई थी
    कंपन्सेट कर जाऊँगी
    बुरा ना माने गर
    शाम को लेट जाऊँगी

    बस ऐसे ही लेख लिखते रहिए! :-)

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह क्या तो देह के बहाने लेन-देन करके डाल दिया। जिसको लेना हो लेके जाये।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहूत अच्छी रचना. कृपया मेरे ब्लॉग पर पधारे.

    उत्तर देंहटाएं
  12. शानदार विश्लेष्ण ! अबतो इतिहास में आप जरुर दर्ज हो ही जावोगे |

    उत्तर देंहटाएं
  13. ऐसी विचार-भंगिमा कहाँ से अख्तियार कर लेते हैं साहब ! मुँह बंद हो गया है हमारा ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. आप के लेखों में छलांगे देखने को मिलती हैं, हम उस के फैन हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. देह कहाँ कहा था ?यह तो आप कह रहे हो देह सम्राट !

    उत्तर देंहटाएं
  16. ये तो ऐताहासिक पोस्ट ही कहलाई..

    वैसे टिप्पणीशास्त्र की मूल भावना पर भी आपके विचार अच्छे लगे:

    'जहाँ देह वहाँ लेह'

    :)

    उत्तर देंहटाएं
  17. इतिहास मै अमर हो जाओ... हमे कोन सा रटा मारना है

    उत्तर देंहटाएं
  18. शब्दों के साथ खूब खिलवाड़ किया आपने :)

    अजी हम फेकने की बजाये देने में विशवास रखते हैं, बताइये कितनी टिप्पणी चाहिए ?

    :) :) :) :) :) :)
    वीनस केसरी

    उत्तर देंहटाएं

  19. भाई विवेक जी,
    कृपया मेरी सकारात्मक टिप्पणियाँ स्वीकार करें !
    मैं तो न देह में ठँस पाया, और न लेह में अँट पाया ।
    जहाँ चाहें, इस सकारात्मक टिप्पणी को अपनी सुविधानुसार समायोजित करें ।
    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं

  20. एप्रूवल !
    यह लटका यहाँ भी ?
    बढ़िया है !

    उत्तर देंहटाएं
  21. हम सोच रही थीं कि फुरसतिया जी को का हो गया है बार बार देह के पीछे पढ़ जाते हैं आखिर क्या चाहते हैं :)इसलिए चिढकर यह पोस्ट नहीं खोल रहे थे ! अब खोली तो पाया इइ तो अपने बिबेक जी की निकली .. बच्चे बूढे और जवान सभ्भी देह राग में इस या उस बहाने डूबे हैं !बढिया विस्लेसन किए हो ! बधाई हो !

    उत्तर देंहटाएं
  22. yah bhi khoob rahi!

    'deh' ka ye bhi arth nikaala..!

    ***100 baaton ki ek baat---:Post thelne ke liye--'blogging,tippani,Nari shoshan ke baad ab yah vishy lagta hai..blog-bhavishy ka 'janpriy vishya' hone wala hai..

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण