रविवार, मार्च 28, 2010

कर अतिरिक्त प्रयास












कर
अतिरिक्त प्रयास ।

अंधकार जब आँखों में हो
बहते अश्रु निगाहों में हों
लगे टूटने आस ।
कर अतिरिक्त प्रयास ॥

लक्ष्य न जब तक हो मुट्ठी में
मज़ा नहीं तब तक छुट्टी में
त्याग हास-परिहास ।
कर अतिरिक्त प्रयास ॥

तुझे सफल ही होना होगा
असफलता को रोना होगा
मन में रख विश्वास ।
कर अतिरिक्त प्रयास ॥

कोई कसर छोड़ मत बाकी
कठिन परीक्षा ले क्षमता की
कहना पड़े न 'काश' ।
कर अतिरिक्त प्रयास ॥

तू बाहर हो या हो घर में
डूब परिश्रम के सागर में
अपना लक्ष्य तलाश ।
कर अतिरिक्त प्रयास ॥

सिर्फ़ न बह मौजों में 'मौज़िल'
लगा अन्य कामों भी दिल
करता रह अभ्यास ।
कर अतिरिक्त प्रयास ॥


-विवेक सिंह 'मौज़िल'

12 टिप्‍पणियां:

  1. सही है सफलता के लिए तो लगातार,निरंतर अथक प्रयास करते रहना होगा...

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपना लक्ष्य तलाश ।
    कर अतिरिक्त प्रयास ॥
    सार्थक रचना
    पर यह 'मौज़िल' कौन है?

    उत्तर देंहटाएं
  3. अंधकार जब आँखों में हो
    बहते अश्रु निगाहों में हों
    लगे टूटने आस ।
    कर अतिरिक्त प्रयास ॥
    Bade sahi samay pe is rachna ne dhadas bandhaya!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे तो लगता है यह इस का आखरी प्र्यास ही होगा....
    बहुत सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज बहुत गंभीर हो गए विवेक ......कुशलता के लिए हार्दिक मंगल कामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  6. इसे तो बच्चो की स्कूल की किताबो में होना चहिये.. वैसे बड़ो के भी काम की है ही.. मुझे तो लगा था कर "टैक्स" के बारे में बताएँगे आप यहाँ तो मामला कुछ औरनिकला..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सार्थक प्रयास। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. wah wah.. message ke sath sath tukbandi bhi bahut hi lajawab hai .. :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सार्थक प्रयास। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण