बुधवार, फ़रवरी 04, 2009

धन्यवाद साथियो !

आपके साथ इतना समय बिताया !

समय की माँग है कि अब विराम लूँ !

आप सब की याद मुझे आती रहेगी !

मेरे लायक कोई सेवा हो तो मेल पर मिलें !

ईश्वर ने चाहा तो फिर बिलाग लिखूँगा !

आप सभी को मेरा नमस्कार !

89 टिप्‍पणियां:

  1. विवेक,बुरा मत मानना,तुम्हे विवेक कह रहा हूं।उम्र मे तुमसे बड़ा हूं इसलिए कह रहा हूं।मुझे जीवन मे बहुत कम लोग पसंद आए हैं उनमे से एक तुम हो।तुम अच्छे कवि,लेखक और पत्रकार से ज्यादा मुझे अच्छे इंसान लगे हो,इसलिए तुमसे रिक्वेस्ट कर रहा हूं तुम्हारी इस नेटदु की निया को और कम-से-कम मुझे बहुत ज़रूरत है।तुम्हारा इस तरह जाना मुझे पच नही रहा है,हो सके तो तुम इस पर पुनर्विचार कर लो। और हां हो सके तो अपना संपर्क नंबर मुझे ज़रूर दे देना।

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्‍या हो गया भई !!!! आपलोग क्‍या कर रहे हैं ? मेरी समझ में तो बिल्‍कुल नहीं आ रहा ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ओ जाने वाले, हो सके तो लौट के आजा.........
    विवेक भाई, आज की दुनिया में सेंस आफ ह्यूमर कम हो रहा है। इसका मुझे भी अहसास हुआ। क्या आप जैसे बिलागर को फुरसतिया छोड सकेंगे। आ जाओ....उडन तश्तरी में बैठ कर...

    उत्तर देंहटाएं
  4. ई का महाराज? कहाँ चल दिए?
    हम तो नहीं जाने देंगे.. अजी हम आप पर आरोप नहीं लगाये थे आज वाले पोस्ट पर.. :) जो आप भाग खड़े हुए.. कम से कम अपना नंबर तो हमें इ-मेल कर दीजिये.. ई-मेल पता आपको मेरे इस कमेन्ट के साथ मिल जायेगा.. मैं इंतजार कर रहा हूँ.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये क्या है विवेक भाई? कुछ समझ नहीं आया| "समय की माँग है कि अब विराम लूँ !" मतलब? १ अप्रैल तो बहुत दूर है अभी|

    उत्तर देंहटाएं
  6. विवेक जी ज़रा गौर कीजिये , अनिल जी को कुछ लोग जीवन में बहुत कम पसंद आए हें, और उनमें से एक आपको हें!! जाते जाते आपको अब ये सब सुनना पड़ेगा??

    उत्तर देंहटाएं
  7. लगता है विवेक जी स्वप्नलोक की सैर पर निकले हैं| भाई आपके इस स्वप्न से हमें बड़ा डर लग रहा है|

    उत्तर देंहटाएं
  8. मिलते रहना बन्धु,
    हम ब्रह्मपुत्र तुम सिन्धु,
    जब बाढ़ (विचारों की) आएगी तो हम हर किनारे तोड़ कर मिलने को आयेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  9. Are...Ye kya baat huee ?
    Vyast ho gaye achanak ya kuch aur baat hai ?
    Aap likhte raheeye...jab bhee samay mile..

    ( sorry to comment in English I am away )

    Warm regards,
    - Lavanya

    उत्तर देंहटाएं
  10. तू तो जा ही नहीं सकता यार...। क्यों खामखा़ सबको दुःखी करने का खेल खेल रहे हो भाई?

    मुझे तो बस यह देखना है कि पल्टी मारने में कितनी देर लगाते हैं विवेक। :)
    शायद दो दिन लग जाएंगे। पक्का कह रहा हूँ। नो स्माइल प्लीज़ :D

    उत्तर देंहटाएं
  11. ऐसा क्या हो गया? अचानक ऐसा निर्णय?
    एक बार फिर विचार करें निर्णय पर।

    उत्तर देंहटाएं
  12. जल्दी ही विराम ले लो आराम भी बहुत जरुरी है. लगातार लिखाकत आदमी जल्दी थक जाता है न छोटे भाई ....

    उत्तर देंहटाएं
  13. टंकी पर चढ़ने की एक और धनुष टंकार ! हद है भाई ! मुझे करीब एक माह से लग रहा था कि विवेक भाई कुछ ऐडे बेडे चल रहे हो और आख़िर आज धनुहा धर ही दिया -इट्स मोस्ट अनलाईक ऑफ़ यू विवेक ! हाऊ कैन यू डू दिस टू अस ?? अब कोई मुआमला हो तो बोलो ना -हम हैं ना !
    विवेक बी ब्रेव ! यू आर नाट ये चाइल्ड ! डोंट बी ये क्विटर ! अपना काम धाम भी निबटाये और उतना नियमित नहीं तो कम ही पर जाएँ न -वैसे भी बसंत शुरू होता है अब !

    उत्तर देंहटाएं
  14. विवेक भाई ,
    जाने अनजाने कोई बात लग गई हो तो चिंतन करो इतना बड़ा फ़ैसला लेने से पहले दो बार सोचो . या कुन्नु सिंह जैसा स्टंट है तो कोई बात नही . गुरु फ़िल्म मे डायलोग था जब कई लोग आदमी की बुराई करने लगे तो समझो वह तरक्की कर रहा है . और तुम तरक्की पर हो कहाँ यार चक्कर मे पड़ गए .मस्त रहो लिखते रहो चाहे कैसा भी लिखो .किसी की भी खटिया खडी करो .

    उत्तर देंहटाएं
  15. विवेक जी, समय की कभी इतनी भी कमी नही होती की पूर्ण विराम लेना पड़े, अरे भाई ब्लॉग पर आना कुछ कर दो लेकिन यहाँ बने तो रहो ! ज्यादा नही तो सप्ताह में एक आध दिन ही सही ! आपकी कमी हमें तो हमेशा खलती रहेगी !

    उत्तर देंहटाएं
  16. ये तो बड़े लोगों के चोंचले हैं जी! तुम कहां इनके चक्कर में पड़ गये? विराम अर्जी निरस्त करी जाती है। अगली पोस्ट का इंतजार है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. भाई टंकिया पर चढे हो तो अब उतर आओ.

    देखो फ़ुरसतिया जी से बिना पूछे टंकी पर चढना मना है. फ़िर अब तो उन्होने सार्वजनिक रुप से आपकी अर्जी भी निरस्त कर दी है.:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  18. भई ये शोले के वीरु यानी अपने धर्मेन्दर पाजी वाला टोटका तो नहीं है । हम तो यही कहएंगे कि बेवजह की बात छोडिये और जुटे रहिए । ऎसा कौन सा काम आन पडा आपके सिर जो आप थोडा वक्त भी ना निकाल सकें । कहीं ओबामा के मंत्रिमंडल में शामिल होने का बुलावा तो नहीं आ गया ...? कोई बहाना नहीं ,कोई छुट्टी नहीं ...। लग जाइये काम पर । वैसे भी मंदी का दौर है ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. विवेक जी,
    ऐसा न करो.. हम सभी अपनी व्यस्ताओं की वजह से लिख नहीं पाते.. कभी मन नहीं होता, कभी कुछ लिखने के लिये विषय नहीं होते.. पर हम विराम की बात नहीं करते.. हाँ अगर आप कहें कि २ दिन बाद लिखुंगा.. या दो माह बाद लिखुंगा तो समझ आती है.. पर ... छुट्टी बिना समय लिखे.. ना जी ना... पुरी उम्मीद है आप एक दो दि्न में विराम खत्म करके आयेंगें.. और हाँ मुझे.. आपकी पोस्ट "मेरे पै जो डीजे होता...." बहुत पसंद आयी.. और अक्सर वो पंक्तिया याद करता हूँ..और अकेले में हँसता रहता हूँ... .. और एक बात अगर लिखोगें नहीं तो मेरे अर्ध शतक का क्या होगा??.:)

    Enjoy... शुभकामनाऐं..

    उत्तर देंहटाएं
  20. एक बात और अभी तक दस लोगों ने आपकी इस पोस्ट को पंसद किया है.. और २२ जन रुकने को बोल रहे है.. तो बहुमत किसका हुआ?? अच्छा किया अनुप जी ने आपकी अर्जी निरस्त कर दी..

    उत्तर देंहटाएं
  21. vivek ji aisa kya ho gaya aap itna achha likhte hain aapki post pad kar is likhne ke boring kam me jara sa muskra lete hain betaji aapke liye ye theek nahi aisaa bhool kar bhi na karna vinati saveekaar karen

    उत्तर देंहटाएं
  22. घबराओ मत ये विवेक हम सब से मजाक कर रहा है

    उत्तर देंहटाएं
  23. समय की माँग है कि अब विराम लूँ !
    आप सब की याद मुझे आती रहेगी !
    " ह्म्म्म्म ये समय कब से मांगने लगा जी...???? और जरा बताइए समय ने क्या बोल कर क्या माँगा....और रही बात याद आने की तो एक दम झूट.....वो यु की याद आती तो विराम की बात नही आती???? सोचो सोचो....और फ़िर अच्छा सा लिख डालो "

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  24. अविरल चलते जाना है नहीं है रुकना नहीं है मुड़ना यह हम सब की अभिलाषा है

    उत्तर देंहटाएं
  25. अब बने हो परफ़ेक्ट बिलॉगर... टिप्पणिया गिनते जाओ भाई..

    उत्तर देंहटाएं
  26. AAp ka blog mai humesha parti rahi hu per pata nahi ku kabhi comment nahi kiya.

    aaj apki ye post per ke bura lag raha hai isliye comment kar rahi hu....

    उत्तर देंहटाएं
  27. चल दिए कहाँ ? जो यहाँ आए वह कहाँ जा पाये फ़िर ..आप भी यही रहेंगे

    उत्तर देंहटाएं
  28. भाई अभी तक टंकी से उतरे नही क्या? :) घणि देर हो गई यार अब तो.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  29. अभी तो वसंत आया था और पतझड़ कर के जा रहे है .
    अभी तो हम मिले थे और अभी आप आप जाने की बात कर रहें हैं .
    समय कहाँ है किसी के पास लेकिन आप अपनों को छोड़ के जा रहे है .
    एक बार विचार और कर लीजिये विवेक जी कही आप कुछ ग़लत तो नही करने जा रहे हैं.

    ............आप की प्रतीक्षा में....................

    उत्तर देंहटाएं
  30. इसने तो ली सब कुछ देकर पर तुम इससे सस्ती ले लो
    ये त्रस्त चला इस बस्ती से थोड़ी लस्ती-पस्ती ले लो
    कौन टाइप के हो यार विवेक भाई--
    अभी दो दिन पहले तो आप कह रहे थे कि-
    "खींचा तानी होती ऐसे ज्यों जल बीच लडे गज़ ग्राह"
    कहीं ऐसा तो नहीं के आपके इस ग्राह याने मगरमच्छ ने जल की ग़फ़्लत में थल में ही गज याने हाथी का पैर धरने की कोशिश कर ली हो और नतीजे में अपने मगरमच्छी आँसू बहा बहा कर आपको विचलित कर दिया हो। मत घबराओ यार हम हैं ना। और कल की पोस्ट आपने काहे वापस ले ली जिसमें दिलेरी से यह लिख आए थे कि--
    अरे डबलपुर वासियों, हो जाओ होशियार ।
    मिलकर बदनामी करें, सिर्फ आदमी चार ॥
    सिर्फ आदमी चार शहर अपना बतलाएं ।
    अपना स्वारथ साध शहर का नाम डुबाएं ॥
    विवेक सिंह यों कहें, न भाए सीख भले की ।
    देना उचित सलाह बना है फाँस गले की ॥
    आपकी प्रतिक्रियाओं का स्वागत है
    और इस पर १० प्रतिक्रियाएं भी आ गई थीं फिर अचानक क्या हुआ भाई ? फ़ुर्सतिया जी ने तो नहीं न कुछ कह डाला हमारे प्रिय भाई विवेक को। अब लेकिन हम उनको भी का कर पाएंगे ऊ तो कह्तै हैं के कोई हमार का करिहै ? हा हा।
    चलो लौट आओ यार, हम बात करेंगे सबसे। जाओ तफ़री के लिए हमारा ब्ला॓ग घूम के आ जाओ। आपका दिल बहलाने के लिए ग़ज़ल का एहतेमाम है वहाँ। मन प्रसन्न हो जाएगा। नर्मदे हर।

    उत्तर देंहटाएं
  31. ह्म्म्म्म्म ....अब इस ब्लॉग से कुछ भी उड़ाया जा सकता है...:)

    उत्तर देंहटाएं
  32. ३७ टिप्पणियां हो गयीं, टंकी से उतरने को इतनी बड़ी सीढ़ी पर्याप्त होगी! लोग तो इससे कम पर ही उतर आते हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  33. भाई इतनी कम उम्र में क्यों संन्यास ले रहे हैं . ये अच्छी बात नही है . अब शब्द कम पड़ रहे हैं कि विषय . इसलिए कहा जाता है कि इतनी चीनी खाओ कि जिंदगी भर खाते रहो ऐसा न हो कि डायबिटीज़ हो जाए. फ़िर एकदम छोड़नी परे. लेखन तो फुर्सत के पल का काम है . फुर्सत से संन्यास . अरे भाई पहली बार सुना है . लगता है अभी मुझे ब्लोगगिरी के बहुत स्टंट सीखने पड़ेंगे .

    उत्तर देंहटाएं
  34. क्या बात हो गई ????
    यह भी कोई व्यंग्य तो नही ????
    या अपने प्रशंषकों कि प्रतिक्रिया जानने की युक्ति तो नही?????

    उत्तर देंहटाएं
  35. भावनाओं की यहाँ कोई क़द्र नही है विवेक ! मगर मज़बूत लोग भागते नहीं, ऐसा करके आप उन लोगों को जीतने का मौका दे रहे हो जो किसी योग्य नही और सिर्फ़ योग्यता का ढिंढोरा पीटने में ही माहिर हैं ! हाँ कई बार लिखने का मन नही करता है तो कुछ समय न लिखो शांत रहो !
    आशा है शीघ्र,अपने चाहने वालों को अनुकूल जवाब दोगे !
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  36. सुनाने में आया है की ये पोस्ट बड़ी पसंद की जा रही है! का मतलब है इसका हम विश्लेषण में तनिक कमजोर है :-)

    अरे भाई ऐसे कैसे निकल लिए बिना कारण बताये?

    उत्तर देंहटाएं
  37. ओह ! ये अचानक जाने की बात कहाँ से आ गई । क्या हो गया है ?
    अरे भाई ये सब तो चलता रहता है ।
    इस ब्लॉग जगत में लोग आते अपनी मरजी से है पर जाते नही है । :)
    अब ये गुस्सा-वुस्सा छोडिये और अगली पोस्ट फटाफट लिखिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  38. क्या बात है vivek भाई, अब इतने लोगों की बात मान लो, thook दो gusa, वापस आ jao .......

    उत्तर देंहटाएं
  39. अभी न जाओ दूर हमसे के इस अंतरजाल (ब्लोगिंग) में ग़म बोहत है
    तुम नही शामिल हमारी जिंदगी में अँधेरा बोहत है

    जानते है हम के आप मोम की तरह पिघल जाओगे
    एक उम्मीद सी बाकी है इस दिल में, आप के दिल में चाहत बोहत है .

    अभी न जाओ दूर हमसे के इस अंतरजाल में आप की जरुरत बोहत है
    आ जाओ लौट के आप की जरुरत बहोत है .

    .............आप के इंतजार में ....................

    उत्तर देंहटाएं
  40. कहाँ चल दिए...इधर तो आओ...सब के दिल को ना ठुकराओ...भोले विवेक जी मान भी जाओ...मान भी जाओ...
    मान भी जाओ....
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  41. ऐसा भी क्या नाराज़ होना।इतने लोग मना रहे है उन्का कुछ तो खयाल रखो भाई।

    उत्तर देंहटाएं
  42. ३७ से बढ़ कर अब ४७ हो गई. इतनी जिद अच्छी नहीं होती. दो चार दिन कि छुट्टी तो सभी ले लेते हैं. आप एक दो हपते की ले लो. हम समूह गान में रत हैं: "आ लौट के आजा मेरे मीत, तुझे मेरे गीत बुलाते हैं" कोई आभार नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  43. भाई दुःख हो रहा है आप जा रहे है पर जबलपुर के बलागर्स के ब्लॉग को फुरसत में देखते रहना .
    हा हा हा .......नर्मदे हर..... हर हर महादेव.....

    उत्तर देंहटाएं
  44. आईला .तुम भी चढेला है......भाई उधर रात को बहुत अँधेरा रहता है ओर मछर भी काटते है...ऐसा पिछले बीमार लोगो ने कहा है.......तुम्हारी मौसी कहाँ है ?मौसी जी........!

    उत्तर देंहटाएं
  45. ये क्या बड़े भाई कहाँ चल दिए ......

    और ये वक्त की मांग आप ने सुनी कैसे ...हम तो ये ही जानते हैं की समय बोलता ही नही ...

    पर आप ने सुनी तो बधाई ....पर वापस आओ ....ये वक्त की नही हम सब बोलने वालों की आवाज है..

    उत्तर देंहटाएं
  46. जै हो महाराज......... आपका भी जवाब नहीं......

    उत्तर देंहटाएं
  47. जब पहुंच जाओ विवेक
    नेट के पास नेटिस्‍तान के पार
    तो एक फोन मुझे भी कर देना
    या देना ईमेल भेज
    मैं भी आ रहा हूं
    साथ तेरा मैं न छड्डांगा

    उत्तर देंहटाएं
  48. भाई ५२ टिपणी हो गई. रात के १० बजकर ५० मिनट हो गये यार. अब उतर आओ, उपर टंकी पर मच्छर काट लेंगे, वाईरल बुखार का सीजन चल रहा है. दिन भर के भूखे प्यासे होगे. भतिजे , बस एक बार उतर आओ, खाना पीना करके फ़िर चढ जाना. वर्ना मैं लठ्ठ ले कर आरहा हूं उपर.

    सूबह तक उतरने का समाचार मिल जाना चाहिये. अब बहुत हो चुका बस.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं

  49. अले अले अले,
    क्या हुआ गपोलू को..
    किछी ने कुथ कहा है क्या ?
    जा राजा बेटा, ब्लागिंग कर.. हम उछकी पिट्टी कलेंगे !
    नईंतो तुम्हाली पिट्टी हो जायेगी ।
    अच्छे बच्चे गुच्छा नईं कलते, हाँ ?

    उत्तर देंहटाएं
  50. अरे यह कया हो रहा है भाई, मुझे तो इस खबर का पता भी नही चला हमारा बीरु ठर्रा पी कर टंकी पर चढ गया, अरे बीरु, भाई जल्दी से नीचे उतर आओ , नीचे भीड भी बडती जा रही है, ओए मोसी भी तेयार हो गई शादी के लिये, ओर भईया आज कल बन्द्रो ने भी खुब उतपात मचा रखा है,इस लिये भईय शाम होने से पहले उतर लो टंकी से कही कोई बंदर चिपट गया तो.
    ओर भाईया तुम्हारे बिना रोनक कोन लगायेगा, देखो सभी मना रहे है, किसी एक की गलती से तुम सब के दिल केसे तोड सकते हो, अरे जरा बच के भाई इस टंकी पर काई भी बहुत जमी है, कही फ़िसल बिसल गये तो... चलो नीचे आ जाओ , ओर हम सब की इज्जत रख लो.
    रखोगे ना सब की इज्जत.

    उत्तर देंहटाएं
  51. तारीख बदल गई और मैं 57 वां हो गया। यदि सचमुच में कोई निजी कारण हैं तब तो कुछ नहीं कहना। किन्‍तु यदि 'किसी ने कुछ' कह दिया हो और आपका अहम् आहत हो गया हो तो सबकी ओर से मैं क्षमा याचना करता हूं। बोलना भले ही कुछ मत लेकिन महफिल में बने रहो।
    आपकी जगह मैं होता तो यह सब केवल इसलिए कतरा कि पता चल जाए कि मेरे जाने में कितने इंटरेस्‍टेड हैं और मेरे बने रहने में कितने।

    उत्तर देंहटाएं
  52. टिप्पणियों के सठियाने पहले, मैं भी आ पहुंचा!

    आपके ब्लॉग पर शायद ही कभी टिप्पणी की हो, लेकिन इस बार रोक ना पाया.

    बस एक विनम्र आग्रह: लौट आइये.

    उत्तर देंहटाएं
  53. अरे क्या हो गया, हम लोगों से क्या खता हो गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  54. मिले थे कभी हम इस अजनबी शहर में...
    चले हम संग -संग अनजाने सफ़र...
    पलकों में थे सपने,दिल में एक उमंग थी...
    रास्ता था मुश्किल,ख़ुद से हर पल एक नयी जंग थी...
    अब तो बस फिर यादें ही रह जाएँगी...
    कुछ बातें रह जाएगी,वो रातें रह जाएँगी...
    उन्ही रातों में फिर से सोने को जी चाहता है...
    आ जाओ लौट के ये दिल चाहता है ...

    .............आप के आने के इंतजार में ................

    उत्तर देंहटाएं
  55. अरे कितनी चढा ली अभी तक नशा नही उतरा,अरे आ जाओ भाई, ज्यादा गुस्सा भी अच्छा नही

    उत्तर देंहटाएं
  56. का भाय केतना टाइम लगावत हया लौटेमेs . अब त् आई जा हो
    ........इन्तहा हो गई इंतजार की ..................

    उत्तर देंहटाएं
  57. -यह पोस्ट पढ़ ली. अच्छी लगी(टिप्पणियों में प्रायः यही कहा जाता है). अगली कब आ रही है ?

    अभी आए हो, आकर के दामन सम्भाला है.
    तुम्हारी जाऊं जाऊं ने हमारा दम निकाला है.

    उत्तर देंहटाएं
  58. भतीजे इब्बी तक उतरया कोनी? के बात सै? आजा भाई नीचे उतर आ.
    टंकी भी घणी कमजोर हो गई होगी.

    घणा इन्तजार कर रे सैं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  59. ग़लत समय पर रणछोड़ बनना ,ये आपके विवेक की बात हो ही नहीं सकती ?
    - विजय

    उत्तर देंहटाएं
  60. कुल पांच दिनों बाद मैं पहुंचा हूं यहां. इतने दिन दूर रहा, फ़िर आया तो यह धमाका सुना. क्या बात हो गयी? हम तो आपकी ही कमेंट से, और आपके दिये गये हवालों से जाने पहचाने गये. सोच लो ना फ़िर से आप.

    उत्तर देंहटाएं
  61. चिट्ठाचर्चा में पढ़ा था लेकिन पोस्ट आज ही देख पाया. क्या बात हुई है, ये मुझे पता नहीं. लेकिन भाई ऐसा निर्णय ठीक नहीं है. वापस आओ. और फ़िर बिना गुरु को बताये, ये करना ठीक नहीं है.

    उत्तर देंहटाएं
  62. घंटे , दिन बीतते-बीतते अब एक सप्ताह होने चला है , अब तो इंतजार बहुत ज्यादा हो गया है .
    आ जाओ लौट के , अब हर ओर खाली-खाली सा लगाने लगा है .



    आ लौट आ जा विवेक तुझे तेरे मित्र बुलाते है ,यहाँ सूना पढ़ा रे ब्लोगिग.
    तुझे तेरे मित्र बुलाते हैं ,आ लौट के आजा विवेक.

    उत्तर देंहटाएं
  63. विवेक भाई क्या हो गया . कभी कभी लिखते लिखते आदमी थक जाता है . तो ठीक है आप थोड़ा सा आराम कर ले और फिर तैयार हो गएँ एक नए उर्जा के साथ . घर परिवार में सब ठीक तो है ना ?

    उत्तर देंहटाएं
  64. मुझे पहले ही पता था कि अब आपका विकेट गिरने वाला है। जब सारी सारी रात कंपूटर पर बैठकर टाइप करेंगें तो मैडम तो नाराज होएंगी न। चलिए पैचअप कर लीजिए। एक समय बांध लीजिए और कंपूटर से नाता जोडे रहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  65. मान भी जाओ प्यारे जिन्दा कौमे ज्यादा इंतज़ार नही कराती

    उत्तर देंहटाएं
  66. mujhe to kuch samajh hi nahi aa raha.....kya ho raha raha hai? aap ham logo ko yun nahi chod sakte....pleaseeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeee

    उत्तर देंहटाएं
  67. कुछ दिनों का विश्राम है तो जरुर ब्रेक लें..लेकिन ब्लॉग पर जल्दी वापस आईये..आप के लिखने का अंदाज़ सब से जुदा है.
    शुभकामनायें...

    उत्तर देंहटाएं
  68. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  69. विवेक ज़ी

    विवेक से काम लेँ
    और जिसकी गल्ती हो उसे बतायेँ

    दो लाइनेँ याद आ रही हैँ:
    ज़रा ठहरो तुम्हे सुन्न पडेगी दास्ताँ मेरी
    अभी तक बेज़ुबाँ हो के रही है ये ज़ुबाँ मेरी

    उत्तर देंहटाएं
  70. हमाओ नाम सुई डाल लियो
    अपनी लिस्ट में भैया जी
    हम हेमराज नामदेव् "राज़ सागरी "
    कहात हैं

    उत्तर देंहटाएं
  71. १) चले थे साथ मिलकर चलेगें साथ मिलकर तुम्‍हें लौटना पडेगा हम सब की आवाज सुनकर......!
    २)ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना....!
    ३)आ लौट के आजा मेरे मीत तुझे तेरे मीत बुलाते हैं.....!
    ४)आजा रे...मैं तो कब से खडी टंकी के नीचे....!
    ५)आ....जा..तुझको पुकारे तेरे मीत आजा हम तो मिटे हैं तेरी चाह में......!

    अब तो आ ही जाना चाहिए विवेक जी....

    उत्तर देंहटाएं
  72. हा हा ...भाईयो और बहनो इस हकीर ने पाँच गीतों से बीच में भाँजी मार ली और वीरू टंकी
    से नीचे उतर आया है अभी उसकी थोडी दवा दारू चल रही है जल्‍द ही उन्‍होंने ब्‍लाग पर
    आने की बात की है लिजिए उन्‍हीं के शब्‍द सुनिए---

    बालक को शर्मिन्दा न
    > करें . जल्द ही आदेश का
    > पालन होगा :)

    उत्तर देंहटाएं
  73. क्या हो गया भाई क्यों जा रहे हो कहाँ जा रहे हो मत जाओ लौट आओ

    उत्तर देंहटाएं
  74. यह हमरे पीछे क्या -क्या होता रहता है ..पर स्थति सोचनीय है कारन की आप अब तक नही लौटे ..जल्दी वापस आइये .

    उत्तर देंहटाएं
  75. होली की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  76. भतीजे को परिवार सहित होली की हार्दिक बधाई और घणी रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  77. होली की अनंत असीम व रंगीन शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  78. विवेक जी, ये क्या कह रहे हो?
    मुझे तो अभी अभी पता चला है. और चार तारीख के बाद से लिखा भी नहीं. यार ऐसा मत करो, समय की कमी तो सभी को हो ही जाती है.
    मुझे देखो ना, कंपनी में नेट बंद कर दिया तो क्या मैंने ब्लोगिंग छोड़ दी? अब तो हप्ते भर में एक पोस्ट डालता हूँ.
    इसका मुझे जवाब मिलना चाहिए, नहीं तो मैं भी तुम्हारे रस्ते पर चल दूंगा. आखिर मुझे भी एक सपोर्टर मिल गया. जवाब मेल कर देना जल्दी से जल्दी.

    उत्तर देंहटाएं
  79. दैनिक हिंदुस्तान अख़बार में ब्लॉग वार्ता के अंतर्गत "डाकिया डाक लाया" ब्लॉग की चर्चा की गई है। रवीश कुमार जी ने इसे बेहद रोचक रूप में प्रस्तुत किया है. इसे मेरे ब्लॉग पर जाकर देखें !!

    उत्तर देंहटाएं
  80. वाह वाह विवेक जी आप कब आये मुझे पता ही नहीं चला कई बार आपके घर ताला देख कर लौट जाना पडा आज् किसी ब्लोग्गेर की गली मे आपको देख ही लिया बस झट से पहुँच गयी क्या कोई खुशखबरी ले कर आये हैं तो मुँह तो मीठा करवा दीजिये? शुभकामनायें एव बधाई

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण