शनिवार, अक्तूबर 18, 2008

ब्लॉग समाचार

समाचार हिन्दी चिट्ठों के सुनिए आप लगाकर ध्यान ।
रद्दी कविता प्रस्तुत करते पकड़े शिवकुमार ने ज्ञान ।।
आर्थिक मंदी शुरू हुई के ? पूछें ताऊ देउ बताय ।
चिडिया गदही पुकारती थी कैसा कलयुग आया हाय ॥
फिर हाज़िर एक चित्रपहेली अरविंद मिश्रा ने की आज ।
सरिताजी ने खोला आखिर
छलिया चाँद छलनी का राज ।।
मार्क्सवाद आपराधिक है घोस्टबस्टर के सुनें विचार ।
जागा मगर प्रेत इसका ये कहें द्विवेदी जी इस बार ॥
फुटकर सोच पाण्डेय जी की बढा
ब्लॉग पर यातायात
मिला खज़ाना अलमारी में वडनेरकरजी की क्या बात ॥
मॉर्डन नारी बनना हो तो अचूक नुस्खा है तैयार ।
अगर डराना है दोस्तों को है षडयन्त्र यहाँ तैयार ॥
मनविंदर भिंभर कहती हैं
वे रब तेरा भला करे
यहाँ नीलिमा सुना रही है
मृत्युगीत अब कौन मरे ॥
छणिकाएं जो पढनी हों तो नीशू ने की हैं तैयार ।
किन्तु राधिका बुधकर का यह है मार्मिक आरोही
प्यार !

11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब चिटठा चर्चा वह भी कविता में शायद पहली बार

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut khunb . kya baat hai . vivek bahi bahut hi accha laga . likhte rahiye yun hi

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये तो काव्यमय चिठ्ठाचर्चा हो गई ! आईडिया जोरदार है ! बधाई और शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  4. कविता के रूप में चिटठा चर्चा रोचक लगी . विवेक जी बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  5. ye angle to wakai naya hai aur rochak bhee, lage rahiye shaayad kisi din hamaaraa bhee nambar aaye.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सही कवितमय चर्चा..मुख्य मंच से ही कर देते मेरे भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये शानदार चर्चा है ! इस कविता को पढ़ कर मजा आया !

    उत्तर देंहटाएं
  8. चिठ्ठा-चर्चा का काव्य संस्करण बढ़िया और पेटेण्ट कराने योग्य है। जमाये सहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  9. चर्चा पढ़कर आनन्द आ गया। अब निकलते हैं चिठ्ठा पढ़ने। जमाए रहिए जी।

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण