शुक्रवार, सितंबर 17, 2010

आवश्यकता है एक अनुवादक की

किसी अहिंसावादी को एक मच्छर ने काट लिया । अहिंसावादी ने मच्छर को देखा तो सोचा स्वयं ही उड़ जाएगा हिंसा करने से क्या फायदा ? लेकिन शायद मच्छर भी पूरा होमवर्क करके आया था । उसको भी पता था कि मैं जिसका रक्त चूस रहा हूँ वह निरा अहिंसावादी है । अत:  वह निभर्य होकर अपने काम में लगा रहा ।

अहिंसक को विश्वास हो गया कि यह बिना बलप्रयोग के रक्त चूसना बंद नहीं करेगा । फिर भी उन्होंने कानून को अपने हाथ में लेना उचित न समझा । उस मच्छर को वे किसी तरह एक बोतल में बन्द करके थाने ले गए । वहाँ जब उन्होंने रिपोर्ट  लिखवानी चाही तो पहले तो थानेदार ने रिपोर्ट लिखने में असमर्थता जताई लेकिन सत्याग्रह की धमकी  देने पर रिपोर्ट दर्ज कर ली गई । मच्छर को न्यायाधीश के सामने प्रस्तुत किया गया जिन्होंने उसे पुलिस रिमाण्ड पर भेज दिया ।
पुलिस ने पूछताछ में पाया कि मच्छर दोषी है । मच्छर को जेल भेज दिया गया । जेल में उसकी सेल बनी  वह बोतल जिसमें वह बन्द था । उसके लिए एक वकील की व्यवस्था की गयी ।
पहली सुनवाई पर मच्छर के वकील ने न्यायाधीश से माँग की कि मच्छर की भाषा का अंग्रेजी अनुवाद करने के लिए किसी अनुवादक की व्यवस्था की जाय ।
ऐसा कोई अनुवादक अब तक नहीं मिला जो मच्छर की भाषा का अंग्रेजी में अनुवाद कर सके । तलाश जारी है । यदि आप को यह विद्या आती हो तो रोजाना अखबार पढ़ते रहें । इसके विज्ञापन निकलते रहते हैं । यहाँ ब्लॉगिंग में क्या रखा है ?
लेकिन एक बात समझ नहीं आयी । पुलिस ने मच्छर से पूछताछ किस भाषा में की होगी ?

17 टिप्‍पणियां:

  1. pure rang main ho vivek bhai... majaa aa gayaa..

    vise kahate he ki "laato ki bhaashaa sab samajhate he..:)"

    उत्तर देंहटाएं
  2. bhai saab.. aapake blog par koi malware he.. jaza faaltu ke widget haataao.. vise vaani ke aalaawa or kuch dikhtaa hi nahi.. ise hataa kar try karo..

    उत्तर देंहटाएं
  3. मच्छर की बिरादरी के और भी लोग थे, जिनके कारण मच्छर एक कार्यकारी को चुनने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते थे. इस कारण उनके लिये नाराज नहीं किया जा सकता था.

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस बात की गारंटी है कि पुलिस को तो पूछताछ में कोई प्राबलम हुई ही नहीं होगी...उसकी भाषा तो यूनीवर्सल है जो बस डंडे से निकलती है. रही मच्छर की भाषा की समझ... उससे भी पुलिस को कुछ मतलब नहीं क्योंकि अपनी रपट में तो पुलिस वही लिखती है जो उसे लिखना है, आरोपी का क्या है वो किसी भी भाषा में कुछ भी बोतला रहे :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. मच्छर की भाषा शायद ही किसी फोरेन लेंगुएजे स्कूल में सिखाई जाती हो मगर पुलिस वोलो को हर भाषा डिकोड करना आता है !

    उत्तर देंहटाएं
  6. Amerika me mil jayengey aise bahut se college jo machhar ki bhasa sikhate hai..

    out sources me try kare.. ha ha ha

    उत्तर देंहटाएं
  7. शीर्षक पढ़कर मैं दौड़ा चला आया लेकिन पूरा मामला जानकर निराश हो गया। मच्छरों से मेरी जब भी मुलाकात हुई मैंने तत्काल हिंसक रुख अपनाते हुए उन्हें मार डालने का जतन किया। उन्हें वार्ता का मौका देना सही नहीं होता। इसलिए उनकी भाषा की ए.बी.सी. भी नहीं जानता।

    उत्तर देंहटाएं
  8. विवेक वकील और भैस मे कोई ज्यादा अन्तर नही होता सिवाय इसके वो दूध देती है और वकील तारीख.बाकी जुगाली दोनो एक जैसी करते है :)अब मच्छर का तो पता नही बाकी उस बंदे का बचा खुचा खून अब इसी वकील नाम के प्राणी ने चूसना है

    उत्तर देंहटाएं
  9. पुलिस नw अपनी भाषा में पूछताछ की होगी!वे पूछते अपनी भाषा मे हैं,सुनते अपनी भाषा में हैं और लिखते भी अपनी भाषा में हैं अब सामने वाला चाहे कुछ भी कहे और किसी भी भाषा में कहे,उन्हे फ़र्क़ नही पड़ता।

    उत्तर देंहटाएं
  10. मच्छर महान है। सर्वव्यापी है।

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण