शुक्रवार, सितंबर 12, 2008

कृपया सुनें अपील !

प्यारे ब्लॉगर भाइयो, कृपया सुनें अपील ।
मुक्तहस्त दें टिप्पणी, इसमें ना हो ढील ।
इसमें ना हो ढील, हुआ अधिकार ये सबका ।
मिलें टिप्पणी प्रचुर, हो लाभान्वित हर तबका ।
विवेक सिंह यों कहें, उन्नति ब्लॉग जगत की ।
धुआँधार टिपियाएँ , भूल सब बात विगत की ॥

6 टिप्‍पणियां:

मित्रगण