गुरुवार, जून 25, 2009

मेरे प्यारे मानसून



पलक पाँवड़े बिछा रखे थे, इन आँखों में नींद न थी ।
आते आते रुक जाओगे, ऐसी तो उम्मीद न थी ॥

यद्यपि पहली बार नहीं यह, जब तुमने मुँह मोड़ा है ।
मुझे याद है तुमने मेरा पहले भी दिल तोड़ा है ॥
उत्सव की सब तैयारी थी, जबकि दिवाली-ईद न थी ।
आते आते रुक जाओगे, ऐसी तो उम्मीद न थी ॥

यूँ तो पानी मुझमें भी है, यह भी देन तुम्हारी है ।
तुम इतना तो मानो जनता, मेरी नहीं हमारी है ॥
छोड़ा साथ अचानक तुमने, पहले से ताकीद न थी ।
आते-आते रुक जाओगे ऐसी तो उम्मीद न थी ॥

तुम तो कहकर अलग पड़ोगे,"मेरी कोई खता नहीं " ।
कितने लोग रहेंगे भूखे, शायद तुमको पता नहीं ॥
था सम्बन्ध सनातन अपना,बिक्री और खरीद न थी ।
आते-आते रुक जाओगे, ऐसी तो उम्मीद न थी ॥

तुम आते हो और बरसकर खुद को हल्का करते हो ।
अनजाने ही सही, किन्तु मेरी भी पीड़ा हरते हो ॥
मेरे प्यारे मानसून कब, वसुधा तेरी मुरीद न थी ।
आते-आते रुक जाओगे ऐसी तो उम्मीद न थी ॥
पलक पाँवड़े बिछा रखे थे, इन आँखों में नींद न थी ।

39 टिप्‍पणियां:

  1. बेदर्दी हमें सोता छोड़ ,सपने सारे तोड़,
    यूँ छोड़ जाओगे ,इक दिन ,उम्मीद न थी,
    प्यार हमारा खींच लायेगे इक दिन वापस,
    ऐसे तो उम्मीद..थी थी थी थी थी...

    बताओ क्या कल ल्लोगे ....अब की गए न ..घर पहुँच जायेने..फिर झेलते रहना

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढिया विवेक भाई, देर आयद दुरुस्त आयद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन प्रवाहमय पीड़ा का इजहार. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच मे थक गई हैं अब तो नज़रे भी आसमान को तक़ कर्।यंहा भगवाम जगन्नाथ की यात्रा निकली थी कल,बचपन से सुनते आ रहे है कि इस दिन पानी ज़रूर बरसता है और नही बरसे तो अकाल्।जगन्नाथ ना करे ऐसा हों।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी चिट्ठी इन्द्र को अग्रेसित कर दे रहे है वो ही विचार कर उचित निर्णय लेगें.. आप चाहे तो RTI से अधिक जानकारी मांग सकते है.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन वापसी...स्वागत है विवेक भाई...

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी वापसी ने मुग्ध किया । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. तुम आते हो और बरसकर खुद को हल्का करते हो ।
    अनजाने ही सही, किन्तु मेरी भी पीड़ा हरते हो ॥
    मेरे प्यारे मानसून कब, वसुधा तेरी मुरीद न थी ।
    आते-आते रुक जाओगे ऐसी तो उम्मीद न थी ॥
    पलक पाँवड़े बिछा रखे थे, इन आँखों में नींद न थी ।


    bahut hi khub..........lajawaab

    उत्तर देंहटाएं
  9. इसे कहते हैं धमाके दार वापसी....बहुत खूब लिखा है...आज कालिदास होते तो मेघ दूत कैसे लिखते...मेघ ही नहीं तो दूत किसे बनाते...विचारणीय प्रश्न है...नहीं?
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  10. अरे विवेक जी हमारी नज़रें तो तुम्हेंदेखने को थक गयी थी एक पोस्ट डाल कर फिर गायब हो गयी अब पता चला कि इतनी बडिया कविता लिखने मे वक्त तो लगता ही बहुत खूब अगली पोस्ट किइ इन्तज़ार मान्सून से पहले ही रहेगी शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  11. अरे उपर तो गलतियाँ बडी हो गयी भई सही कर लेना नहीं तो सब हंसेन्गे

    उत्तर देंहटाएं
  12. आप लिख ही नहीं रहें हैं, सशक्त लिख रहे हैं. आपकी हर पोस्ट नए जज्बे के साथ पाठकों का स्वागत कर रही है...यही क्रम बनायें रखें...बधाई !!
    ___________________________________
    "शब्द-शिखर" पर देखें- "सावन के बहाने कजरी के बोल"...और आपकी अमूल्य प्रतिक्रियाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  13. मानसून के बहाने हालात का चित्रण बहुत सुंदर तरीके से किया है।
    अब आ गये हैं, तो जमे रहिएगा।

    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं
  14. तुम आते हो और बरसकर खुद को हल्का करते हो ।
    अनजाने ही सही, किन्तु मेरी भी पीड़ा हरते हो ॥

    maansoon की इंतज़ार में rachi सुन्दर रचना............. सब को इंतज़ार है इसके आने की

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर कविता है. तुम्हारा कुछ लेकर आना हमेशा बहुत सुखद रहता है शिष्य.

    उत्तर देंहटाएं
  16. haalat sachmuch kharaab hai is garmee me...nahaake ata hoon vaaps to lagta hai fir nahaa loon jaake

    उत्तर देंहटाएं

  17. विवेक भाई, मेरा छाता नहीं बिक रहा है...
    कुछ करो ना !

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुंदर, काश भगवान इस कविता को ही पढ कर बरसात कर दे.
    किसी ईमान्दार नेता को भरी दोपहरी मै नंगे पांव हल चलवाओ बरसात जरुर आयेगी, सुना है राहुळ बाबा को गरीबो का बहुत फ़िर्क है....

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह!
    आप लिख ही नहीं रहें हैं, सशक्त लिख रहे हैं. आपकी हर पोस्ट नए जज्बे के साथ पाठकों का स्वागत कर रही है...यही क्रम बनायें रखें...बधाई !!
    ___________________________________
    "शब्द-शिखर" पर देखें- "सावन के बहाने कजरी के बोल"...और आपकी अमूल्य प्रतिक्रियाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  20. तुम आते हो और बरसकर खुद को हल्का करते हो ।
    अनजाने ही सही, किन्तु मेरी भी पीड़ा हरते हो ॥
    मेरे प्यारे मानसून कब, वसुधा तेरी मुरीद न थी ।
    आते-आते रुक जाओगे ऐसी तो उम्मीद न थी ॥
    पलक पाँवड़े बिछा रखे थे, इन आँखों में नींद न थी

    बहुत ही बढिया रचना लिखी है.....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  21. अगर मानसून ब्लागर होता तो आकर टिपियाता इस कविता पर और लिखता- लो भैया हम आ गये बताओ ठहरने का क्या इंतजाम है?
    सुन्दर कविता। मन खुश हो गया सुबह-सुबह इसे पढ़कर और अभी शाम तक खुश हैं दुबारा पढ़कर। तीसरी बार पढ़ेंगे तो बतायेंगे नहीं! :)

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह बहुत अच्छा लगा मानसून को इस तरह
    बुलाना, लुभाना विवेक भाई


    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  23. आते-आते रुक जाओगे ऐसी तो उम्मीद न थी ॥
    खैर, अब आते रहिए:)

    उत्तर देंहटाएं
  24. आते-आते तो रुक गया है जी. अब उम्मीद पे टिके हैं.
    आप अच्छा लिखते हैं ये कहने की जरुरत बची है क्या ? :)

    उत्तर देंहटाएं
  25. आशा करते हैं कि अगले कुछ दिनों में आपकी ही तरह मानसून भी जोरदार तरीके से वापसी करे :)

    उत्तर देंहटाएं
  26. एक और गीत लिखें विवेक जी ..शायद अब भी आ जाय बेईमान मानसून !

    उत्तर देंहटाएं
  27. मुझे आपका ब्लॉग बहुत अच्छा लगा! बहुत ही शानदार रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ है!
    मेरे ब्लोगों पर आपका स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  28. bahut hi badhiya..
    sach much ye mansun jitna late hota jaa raha hai.. bijali pani ki samsya badhti jaa rahi hai..
    naa jaane kab barsange badra.. ???

    उत्तर देंहटाएं
  29. पलक पाँवड़े बिछा रखे थे, इन आँखों में नींद न थी ।
    आते आते रुक जाओगे, ऐसी तो उम्मीद न थी ॥

    बहुत ही सुन्‍दर भावों के साथ बेहतरीन रचना, बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  30. मुझे नहीं पता कि आपका प्रिय मेघ बरसेगा कि नहीं, बस इतनी चाह है कि आपकी कलम बरसती रहे.

    बहुत ही सुन्दर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  31. आप मेरे ब्लॉग पर आये और अपनी प्रतिक्रिया दी, इसके लिए आभार. अपनी कृपादृष्टि बनाएं रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  32. Hame sadiyon maaf kartee rahee,prakrutee maa

    Ek samay to aanaa tha, jab usne roothnaa thaa,

    Aao! milke roke vinash uska, door nahee warna,

    Kya mera, kya tera, sarvnaash pooree dharteekaa!!

    http://shama-baagwaanee.blogspot.com

    http://shama-kahanee.blogspot.com

    http://fiberart-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://shamasnsmaran.blogspot.com

    http://chindichindi-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण