गुरुवार, जुलाई 30, 2009

फ़ुरसत मिले ढेर सारी तो...

रूठ गयी हैं देवि सरस्वति,

देव आइडिया भी रूठे ।

कुछ विचार थे अधकचरे से,

मुई व्यस्तता ने लूटे ॥

यह जीवन की दौड़ धूप सी,

हमको रास नहीं आती ।

व्यस्त देखकर देवि कल्पना,

भी, अब पास नहीं आती ॥

मिले ढेर सारी फ़ुरसत तो,

संग कल्पना के डोलें ।

सच को दूर भगाकर कुछ दिन,

झूठ हर समय बस बोलें ॥

यारों के संग ताश खेलकर,

खुलकर हँसने की बारी ।

अट्टहास कर शोर मचायें,

होती हो ज्यों बमबारी ॥

19 टिप्‍पणियां:

  1. यारों के संग ताश खेलकर,
    खुलकर हँसने की बारी ।
    अट्टहास कर शोर मचायें,
    होती हो ज्यों बमबारी ||

    विवेक भाई आपने दोस्तों की याद दिला दी | यार वो रात-रात भर ताश खेलना ...

    जवाब देंहटाएं
  2. इत्ते खतरनाक आइडिया हैं इसीलिये फ़ुरसत देव आपको फ़ुरसत प्रदान नहीं करते!

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया |

    फुरसत देव से आपको फुरसत देने की प्रार्थना करेंगे |

    जवाब देंहटाएं
  4. जब बिना फ़ुरसत ये हाल हैं तो फ़ुरसत के समय क्या होगा?

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  5. यारों के संग ताश खेलकर,

    खुलकर हँसने की बारी ।

    अट्टहास कर शोर मचायें,

    होती हो ज्यों बमबारी


    --काश!! ऐसे मौके मिल पाते.. वैसे बिना फुरसत भी कम नहीं आंका जा सकता. :)

    जवाब देंहटाएं
  6. जी बजा फरमाया -दिल चाहता है फिर वही फुरसत के चार दिन !

    जवाब देंहटाएं
  7. फुर्सत देव ने जैसे छोडा कि कल्‍पना देवी हाजिर .. क्‍या बात है !!

    जवाब देंहटाएं
  8. यह तो फुरसतिया महाराज ही आपको बता सकते हैं कि आपको फुर्सत कब मिलेगी.

    जवाब देंहटाएं
  9. फुर्सत?
    नौ मन तेल जुटाओ तो राधा नाचें!

    जवाब देंहटाएं
  10. हमारी व्यथा लिख दी मित्र

    जवाब देंहटाएं
  11. हां जी, हमार इंटरनेटवा भी रूठे बैठा था, सो देर से टिपिया रहन:)

    जवाब देंहटाएं
  12. फुर्सत ये क्या होती है

    जवाब देंहटाएं
  13. बैठे रहे तसव्वुरे-जानां किये हुये...

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत खूब, बचपन याद दिला दिया !

    जवाब देंहटाएं

मित्रगण