बुधवार, सितंबर 07, 2011

शर्म मँगाओ




शर्म मँगाओ !


संसद के गलियारों में है इसकी किल्लत


शर्म मँगाओ !



बम फूटे हौसला न टूटे,


मंत्रालय न हाथ से जाए ।


चाहे पड़े झेलनी जिल्लत


पर मंत्रीपद को न गँवाओ


शर्म मँगाओ !


बिना शर्म के नहीं चलेगा


कुछ उपाय कुछ बात करो


करो देश में ही वसूल


या बाहर से आयात कराओ


शर्म मँगाओ !



संसद के गलियारों में है इसकी किल्लत


शर्म मँगाओ !

5 टिप्‍पणियां:

  1. सटीक बात कही है आपने .....एकदम सही

    उत्तर देंहटाएं
  2. बडी किल्लत है भाइ इस माल की जिसका नाम शर्म है :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. शर्म की जरूरत है किसे, कम से कम राजनीतिबाजों को तो नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. शर्म के स्टॉक को राजनीती में कौन पूछता है जी उन्हें तो बेशर्मी का स्टॉक चाहिए

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण