रविवार, नवंबर 07, 2010

ओ मामा कुछ देते जाना

ओ मामा कुछ देते जाना
सीट सुरक्षा परिषद की दो
या देने का करो बहाना
ओ मामा कुछ देते जाना
 
थोड़ी सी तारीफ हमारी
कर दोगे यदि अबकी बारी
बिगड़ेगी न तबीयत थारी
फिर यूँ काहे का शरमाना
ओ मामा कुछ देते जाना
 
"भ्रष्टाचार कहीं भारत में
मिला न मुझे किसी हालत में
है ईमान यहाँ नीयत में"
दुनिया को ऐसा बतलाना
ओ मामा कुछ देते जाना
 
पाक पड़ौसी को हड़काना
खुलेआम कुछ डाँट पिलाना
बेशक करके फोन मनाना
खेप डालरों की भिजवाना
ओ मामा कुछ देते जाना
 
संकट में देश की लाज है
दकियानूसी यह समाज है
ऊपर से कोढ़ में खाज है
चलन गाल से गाल मिलाना
ओ मामा कुछ देते जाना
 
सीट सुरक्षा परिषद की दो
या देने का करो बहाना
ओ मामा कुछ देते जाना

16 टिप्‍पणियां:

  1. या देने का करो बहाना
    ओ मामा कुछ देते जाना


    -बहाना ही कर पायेंगे बस!!


    शुभ दीपावली!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मामा तो बना गये बहाना
    डाल गये चुग्गा और दाना..

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये क्या देंगे जिनका काम ही है दूसरों को लड़ाकर अपनी पेट भरना .....इनकी संगत में हमारे सभी मंत्री भी ऐसा ही कर रहें हैं इस देश और समाज में ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये मामा तो देने के बजाय लेने आया है !

    उत्तर देंहटाएं
  5. संकट में देश की लाज है
    दकियानूसी यह समाज है
    ऊपर से कोढ़ में खाज है
    चलन गाल से गाल मिलाना
    ओ मामा कुछ देते जाना,
    विवेक जी
    कविता तो सुंदर है , जो कभी मानवता को समझे ही नहीं , उनसे क्या अपेक्षा की जा सकती है , चालबाजी के सिवाय जिन्हें कुछ आता ही नहीं वो क्या दे पाएंगे ?.....
    काश ऐसा भी होता ..
    तो क्योँ आज आदमी धरती पर रोता ,
    पराया तो कोई नहीं है यहाँ पर
    यह समझ होती तो
    इंसान- इंसान का दुश्मन ना होता ,
    शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. मामा मामा बने ओबामा
    स्कूली बच्चों ने थामा
    मांग रहे हैं चंद्र खिलौना
    कृष्ण नहीं, अब आप सुदामा

    उत्तर देंहटाएं
  7. मामा भूल गये हैं भांजे को। दुंदभी बजती रहे, याद दिलाना पड़ेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मामा साले[बाप के] से उम्मीद ही क्या

    उत्तर देंहटाएं
  9. घर वाले खाए शक्कर
    ऐसा है अपना चक्कर
    इस चक्कर में तुम न आना
    ओ मामा ...ओबामा

    उत्तर देंहटाएं
  10. देखिए क्‍या क्‍या मिलता है ??

    उत्तर देंहटाएं
  11. पाक पड़ौसी को हड़काना
    खुलेआम कुछ डाँट पिलाना
    बेशक करके फोन मनाना
    खेप डालरों की भिजवाना
    ओ मामा कुछ देते जाना
    वाह वाह ेऔर कुछ करें या न मगर खेप तो भिजवा ही देंगे। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  12. देते जाना !!!
    (कउए के घोंसने में मांस की उम्मीद)

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण