मंगलवार, अक्तूबर 05, 2010

भारत माता खुश हुई

खाता खोला स्वर्ण का, सही निशाना मार
बिन्द्रा-नारंग को कहें, बहुत बहुत आभार
बहुत बहुत आभार बनाया कीर्तिमान है
अर्जुन की इस मातृभूमि की बढ़ी शान है
विवेक सिंह यों कहें खुश हुई भारत माता
सही निशाना लगा स्वर्ण का खोला खाता

9 टिप्‍पणियां:

  1. पहले स्वर्ण कि आपको भी बधाई

    और अच्छी कविता के लिए साधुवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  2. CWG से अच्छी खबरें आने लगी है.. बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर। स्वरण पदक की बधाई। आपका ये खाता बढता ही रहे। शुभकामनायें
    कृ्प्या इस ब्लाग को भी देखें
    http://veeranchalgatha.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा तो तीर कलमाड़ी को ही लग ही गया मतलब..?

    उत्तर देंहटाएं
  5. स्वर्ण का खाता खोला
    कलमाडी का भरता झोला :)

    बारह खून जो माफ़ होंगे!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण