बुधवार, अक्तूबर 06, 2010

बगुला














लगता है शर्मीला बगुला
होता किन्तु हठीला बगुला

कई रंग में मिलता बगुला
श्वेत रंग अति खिलता बगुला

श्वेत रंग यदि है भी बगुला
दूध-धुला नहिं वह भी बगुला

टेढ़ी गरदन वाला बगुला
लम्बी टाँगों वाला बगुला

पानी में न फिसलता बगुला
मछली पकड़ निगलता बगुला

नहीं चूककर रोता बगुला
फिर से चोंच डुबोता बगुला

ध्यान-मग्न हो खोता बगुला
दिखता जैसे सोता बगुला

नहीं बदलता सूरत बगुला
मानो कोई मूरत बगुला

मौका देख अकड़ता बगुला
तुरत शिकार पकड़ता बगुला

खेतों में आ जाता बगुला
दावत खूब उड़ाता बगुला

कीट पतंगे खाता बगुला
फिर भी भगत कहाता बगुला

हमको राह दिखाता बगुला
बको-ध्यान सिखलाता बगुला

सदा झुण्ड में रहता बगुला
रहो संगठित कहता बगुला

16 टिप्‍पणियां:

  1. इसलिए तो कपटियों को कहतें है जनाब,
    की बो भगत तो है, पर है बगुला ...

    बढ़िया प्रतीकात्मक व्यंग्य रचना .. लिखते रहिये ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमको राह दिखाता बगुला
    बको-ध्यान सिखलाता बगुला

    सदा झुण्ड में रहता बगुला
    रहो संगठित कहता बगुला

    बढिया रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम सब समझ गए पर उन्हें आप बगुला समझते है ???

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम्म बगुला की काफी सारी पहचान बता दीं ..काम आएँगी :)
    बहुत बढ़िया बगुला.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सदा झुण्ड में रहता बगुला
    रहो संगठित कहता बगुला !!

    जी समझ रहे हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये कविता नहीं कहानी कही है
    'बगुला-वाद' की तगड़ी ब्रांडिंग की है.

    सकारात्मक प्रस्तुति के लिए शुक्रिया.......

    उत्तर देंहटाएं
  7. बचपन में रट्टा मार गए होते इसका :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. हम इंसानो मै भी आजकल इस की गुण पाये जाते हे :) धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. सदा झुण्ड में रहता बगुला
    रहो संगठित कहता बगुला !!
    सुन्दर संदेश। शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  10. मैं तो बगुले को बस बगुला ही समझ रहा हूं (कुछ और नहीं, सच).

    उत्तर देंहटाएं
  11. अच्छी प्रस्तुति..... सकारात्मक भी... संदेशपरक भी.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. सदा झुण्ड में रहता बगुला
    रहो संगठित कहता बगुला

    - बगुले के माध्यम से यह सीख उत्तम रही |

    उत्तर देंहटाएं
  13. इन्सानी बगुले से बचकर रहने में ही भलाई है..

    उत्तर देंहटाएं

मित्रगण